संस, बैसा (पूर्णिया) : एक मतदान कर्मी की बूथ पर वोटिग कराने के दौरान मौत की घटना को छोड़ प्रखंड क्षेत्र के 16 पंचायतों में दसवें चरण का मतदान बुधवार को शांतिपूर्ण संपन्न हो गया। इसके साथ ही 1744 प्रत्याशियों के भाग्य ईवीएम और मतपेटी में बंद हो गए। बड़ी संख्या में मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करने घरों से निकले। इस दौरान 70.71 फीसद मतदाताओं ने पंचायत सरकार चुनने के लिए अपने वोट डाले। युवाओं के अलावा महिलाओं ने भी जमकर मतदान किया। यहां भी पुरूषों से अधिक महिला मतदाताओं ने वोट डाले। महिला मतदाताओं का वोट प्रतिशत 78.96 रहा तो पुरूषों का मात्र 63.03 फीसद। मतदान को लेकर बूथों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। सभी बूथों पर सशस्त्र पुलिस के जवान तैनात थे तथा सेक्टर पदाधिकारी एवं अन्य वरीय अधिकारी लगातार बूथों पर घूम-घूम कर स्थिति का जायजा ले रहे थे। निर्वाची पदाधिकारी सह प्रखंड विकास पदाधिकारी गुलजारी कुमार पंडित ने बताया कि शाम पांच बजे तक 61 फीसद मतदाताओं ने मतदान कर लिया था लेकिन करीब एक दर्जन से अधिक बूथों पर मतदाताओं की संख्या अधिक रहने के कारण शाम पांच बजे के बाद भी देर शाम तक मतदान की प्रक्रिया चली। मतदान समाप्ति बाद प्रखंड में 70.71 फीसद फीसद मतदान दर्ज किया गया है। मतदान के बाद देर शाम तक सभी ईवीएम और बैलेट बाक्स पूर्णिया कालेज स्थित मतगणना केंद्र पर लाए गए जिसे कड़ी सुरक्षा के बीच वज्रगृह में रखा गया है। मतगणना 10 एवं 11 दिसंबर को होगी।

बैसा में बुधवार को शांतिपूर्ण वातावरण में मतदान की प्रक्रिया संपन्न हुई। सुबह से ही मतदाता बूथों पर पहंचना शुरू कर दिया। सुबह से लेकर शाम तक बूथों पर मतदाताओं की भीड़ जमी रही। सुबह नियत समय पर सात बजे से सभी 218 बूथों पर मतदान की प्रक्रिया शुरू हुई। सुबह साढे छह बजे ही मतदान कर्मी अपने-अपने बूथों पर पहुंच गए थे। माकपोल के बाद मतदान की प्रक्रिया शुरू हुई। लेकिन शुरुआती दौर में कुछ बूथों पर ईवीएम में गड़बड़ी के कारण मतदान में बाधा आई। पर उसे तकनीकी टीम द्वारा थोड़ी देर में ठीक कर वहां मतदान शुरू कराया गया। इस दौरान कहीं भी कोई हंगामा नहीं हुआ तथा मतदाताओं ने धैर्य पूर्वक लाइन में लग कर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। हालांकि इस दौरान प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत सामुदायिक भवन अनगढ़ हाट बूथ संख्या 104 पर कार्यरत मतदान कर्मी पी-1 राणा प्रताप मुर्मू की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। जिससे वहां थोड़ी देर के लिए अफरा तफरी मच गई। लेकिन वरीय अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर कर्मी के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा तथा व्यवस्थित रूप से पुन: मतदान शुरू कराया। अधिकांश मतदान केंद्रों पर पुरूषों के मुकाबले महिला मतदाताओं की संख्या अधिक देखी गईं। 218 मतदान केंद्रों में-215 ही मूल पोलिग बूथ हैं। जबकि,3 सहायक मतदान केंद्र हैं। मतदान को लेकर मतदाताओं में जबरदस्त उत्साह देखा गया। अधिकांश मतदान केन्द्रों पर शुरू से लेकर निर्धारित समय से अधिक देर तक मतदाताओं की लंबी लाइन लगी रही। मतदान के दौरान बायसी एसडीओ अमरेन्द्र कुमार पंकज, डीएसपी आदित्य कुमार, इंस्पेक्टर सुरेन्द्र कुमार विश्वास, रौटा थाना अध्यक्ष राजेश कुमार, अनगढ़ थाना अध्यक्ष पृथ्वी पासवान, प्रखंड विकास पदाधिकारी गुलजारी कुमार पंडित, अंचलाधिकारी राज नारायण राजा सहित अन्य अधिकारी बूथों पर भ्रमण कर लगातार स्थिति का जायजा लेते रहे। इस दौरान कहीं भी किसी तरहह की घटना नहीं हुई। मतदान की प्रक्रिया समाप्ति के बाद देर शाम तक ईवीएम पूर्णिया कालेज स्थित वज्रगृह लाया गया जहां 10 एवं 11 दिसंबर को मतगणना होगी।

Edited By: Jagran