पटना, जेएनएन। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए महाराष्‍ट्र से आए दो संदिग्‍धों की जानकारी मेडिकल हेल्‍पलाइन को देने के कारण एक युवक की पीट-पीटकर हत्‍या कर दी गई। घटना बिहार के सीतामढ़ी जिले के रून्‍नीसैदपुर की है।

मेडिकल हेल्‍पलाइन को दी संदिग्‍धों की सूचना

मिली जानकारी के अनुसार सीतामढ़ी जिला के रुन्नीसैदपुर स्थित मधौल गांव के बबलू कुमार ने महाराष्ट्र से लौटे दो युवकों के कोरोना का संदिग्ध मरीज होने की सूचना मेडिकल हेल्पलाइन को दी। लॉकडाउन के दौरान बाहर से आने के बावजूद दोनों ने इसकी सूचना प्रशासन को नहीं दी थी।

जांच के लिए ले गई मेडिकल टीम, छोड़ा

बबलू कुमार की सूचना पर मेडिकल टीम गांव पहुंची तथा दोनों को जांच के लिए साथ ले गयी, लेकिन जांच में उन्‍हें कोरोना संक्रमित नहीं माना गया। इसके बाद उन्‍हें छोड़ दिया गया।

सूचना देने वाले को घर से खींचकर पीटा

जांच के बाद घर पहुंचकर दोनों युवकों ने स्‍वजनों के साथ सूचना देने वाले बबलू कुमार काे पकड़ा और उसे घर से बाहर खींचकर सड़क पर पीटा। लॉकडाउन में सड़क पर नहीं निकलने की सख्‍त हिदायत के बावजूद सड़क पर यह घटना होती रही, लेकिन पुलिस नहीं पहुंची। पिटाई से घायल बबलू जब सड़क पर गिरकर तड़पने लगा तो अपराधी उसे छोड़कर चले गए।

अस्‍पताल ले जाते वक्‍त घायल की मौत

बुरी तरह घायल बबलू को रुन्नीसैदपुर के प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र में ले जाया गया, जहां उसकी हालत को नाजुक पाकर बेहतर इलाज के लिए मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्‍ण मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल रेफर कर दिया गया। मुजफ्फरपुर ले जाते वक्‍त रास्‍ते में ही उसकी मौत हो गई।

घटना की एफआइआर दर्ज, दो गिरफ्तार

घटना को लेकर मृतक के स्‍वजनों ने मुजफ्फरपुर के अहियापुर थाने में अपना बयान दर्ज कराया। पुलिस ने बयान के आधार पर गांव के विकास महतो, मदन महतो, ठगा महतो, सुधीर कुमार, दीपक कुमार और मुन्ना महतो को आरोपित किया है। उनमें से दो आरोपित सुधीर महतो और मुन्ना महतो गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस