पटना, जेएनएन। टीएमसी और आरजेडी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं। इनकी कानून-व्यवस्था में आस्था नहीं है। पश्चिम बंगाल की वर्तमान स्थिति बिहार के जंगल राज की याद दिला रही है। शाम में कार्यक्रम की अनुमति मिलती है, और सुबह फैसला वापस ले लिया जाता है। ये बातें बुधवार को कंकड़बाग टेंपो स्टैंड में पटना साहिब के प्रत्याशी रविशंकर प्रसाद के समर्थन में आयोजित सभा में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहीं।

उन्होंने कहा कि बिहार में आरजेडी के शासन काल की तरह पश्चिम बंगाल में भी लोकतंत्र के नाम पर तानाशाही है। अराजकता को सत्ता का संरक्षण मिल रहा है। उन्होंने कहा कि यूपीए की सरकार में पाकिस्तान पर कार्रवाई नहीं करने का बहाना एटम बम को बनाया जाता था। आज एटम बम कहां गया? तीन तलाक का अंत महिला सशक्तीकरण में बड़ी सफलता उन्होंने कहा कि तीन तलाक को खत्म करना महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में बड़ी सफलता है।

तीन तलाक लागू करने में रविशंकर की अहम भूमिका
आधी आबादी को आजादी के बाद पहली बार प्रखरता के साथ आगे बढ़ने का अवसर प्रदान किया है। यह कदम अल्पसंख्यक समुदाय की महिलाओं के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। तीन तलाक को सख्ती से लागू कराने में सबसे बड़ी भूमिका पटना साहिब के प्रत्याशी सह केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद की रही है। रविशंकर प्रसाद ने डिजिटल इंडिया के कार्यक्रम को आगे बढ़ाया है। इनके नेतृत्व में ही आज घर-घर में इंटरनेट और मोबाइल की पैठ है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप