पटना, जेएनएन। बिहार के सबसे बड़े सियासी परिवार लालू प्रसाद यादव के घर पर एक बार फिर फैमिली ड्रामा शुरू हो गया है। ऐश्‍वर्या ने राबड़ी देवी पर मारने का आरोप लगाया है। वह राबड़ी आवास के बाहर रोते हुए कहा कि सुरक्षा गार्डों ने उन्‍हें धक्‍का देकर बाहर निकाल दिया। घटना की जानकारी मिलते ही ऐश्‍वर्या के पिता चंद्रिका राय और मां पूनम राय समेत काफी संख्‍या में उनके समर्थक पहुंच गए। समर्थक लालू-राबड़ी मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे। मौके पर पहुंची पुलिस ने भीड़ को संभाला।   

तेजस्‍वी ने दिया राजनीतिक रंग

उधर, घटना की जानकारी मिलते ही राबड़ी आवास पर पुलिस भी पहुंच गई। महिला थानाध्‍यक्ष आरती जायसवाल ने ऐश्‍वर्या राय से घटना की जानकारी ली। महिला थानाध्‍यक्ष ऐश्‍वर्या राय को अपने साथ महिला थाना ले गई। बताया जा रहा है कि थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

घंटे के बाद भी राबड़ी आवास के अंदर से कोई भी व्‍याक्ति बाहर नहीं निकला। बाहर से गेट पर ताला लगा दिया गया।

बता दें कि इसके पहले 29 सितंबर को लालू फैमिली में हाइवोल्‍टेज ड्रामा हुआ था। दिन भर ड्रामे के बाद ऐश्‍वर्या देर शाम राबड़ी आवास लौटी थीं। बता दें कि तेजस्‍वी यादव अभी रांची में हैं। खास बात कि रांची में तेजस्‍वी ने इशारों ही इशारों में इस पारिवारिक घटना के पीछे नीतीश कुमार को दोषी ठहराया। उन्‍होंने कहा कि मेरे लिए पहले देश है, फिर परिवार।  

 

मेरा गहना और फोन छीन लिया: ऐश्‍वर्या

इसके पहले मीडिया से बात करते हुए ऐश्‍वर्या ने कहा कि राबड़ी देवी ने मुझे बाल खींच कर मारा है। राबड़ी आवास के रहने वाले गार्ड ने भी मुझे मारा है। ऐश्‍वर्या ने बताया कि राबड़ी ने मेरा फोन भी छीन लिया है। उसमें तलाक से संबंधी कई ऐविडेंस हैं। कोई गार्ड ने मदद नहीं की। इतना ही नहीं, मेरे मां-बाप को जलील कर रहे हैं। 

पर्चा के कारण बढ़ा विवाद

दरअसल, पटना यूनिवर्सिटी में पोस्टर साटे जाने के बाद लालू परिवार में हंगामा हुआ है। ऐश्वर्या ने कहा कि जब हमने पोस्‍टर के बाबत पूछा तो राबड़ी देवी हमें मारने लगीं। गार्ड ने भी राबड़ी के साथ बाल खींच कर मारा है। उन्‍होंने रोते हुए कहा कि पुलिस देखती रही, गार्ड देखते रहे, लेकिन उनलोगों मेरी मदद नहीं की। मुझे धक्‍का देकर घर से बाहर निकाल दिया गया। बाहर निकालने में महिला गार्ड ने भी साथ दिया।

'राबड़ी ने कहा- बाप के घर जाओ' 

ऐश्‍वर्या ने कहा कि राबड़ी ने मुझे कहा कि बाप के घर जाओ। और इसके बाद मुझे घर से धक्‍का देकर निकाल दिया है। ऐश्वर्या का कहना है कि पोस्टर छपने के बाद मैंने राबड़ी से कहा कि जो कहना-लिखना है, मेरे बारे में लिखो। मेरे पिता को क्यों घसीट रहे हो। इसी पर मारा-पीटा।

तेजस्‍वी से कुुछ नहीं होगा, वे कुछ नहीं करते हैं

तेजस्वी के बारे में जब मीडिया ने ऐश्‍वर्या से पूछा ताे उन्‍होंने कहा कि तेजस्‍वी भी कुछ नहीं करेगा। उससे कुछ नहीं होगा। उसे अगर करना होता तो करता नहीं क्या। ऐश्‍वर्या ने कहा कि केवल ये लोग यादव, यादव करते हैं। उन्‍हाेंने कहा कि मैं यादव नहीं हूं क्या। मेरे दादा ने लालू यादव को बनाया है। उनकी पोती के साथ ऐसा कर रहा है। 

'मैं यादव नहीं हूं क्या' 

ऐश्वर्या राय ने लालू परिवार के यादवों के रहनुमा होने पर भी सवाल उठाया और कहा कि ये लोग झूठमूठ का यादव-यादव करते हैं। मैं यादव नहीं हूं क्या? अपने दादा एवं पूर्व मुख्यमंत्री दारोगा प्रसाद राय के बारे में कहा कि उन्होंने ही लालू यादव को आगे बढ़ाया। आज उनकी पोती के साथ ही लालू परिवार ऐसा व्यवहार कर रहा है। ये लोग किसी के नहीं हैं। सबका इस्तेमाल करके फेंक देते हैं। ऐश्वर्या ने पिछली बार मीसा भारती पर भी आरोप लगाया था। 

चंद्रिका राय ने कहा होगी आर-पार की लड़ाई

उधर, राबड़ी आवास के बाहर मौजूद ऐश्‍वर्या के पिता चंद्रिका राय आगबबूला दिखे। उन्‍होंने लालू परिवार व तेजस्‍वी को भी खूब भला-बुरा कहा। उन्‍होंने कहा कि तेजस्‍वी ने नपुंसकता का परिचय दिया है। कहा कि लालू परिवार से ऐसी उम्‍मीद नहीं थी।

चंद्रिका राय ने कहा कि अब आर-पार करेंगे। राबड़ी महिला सम्मान की बात करती हैं और अपनी बहू पर ही जुल्म ढाती है। अब हमलोग बर्दाश्‍त नहीं करेंगे। उन्‍होंने कहा कि लालू फैमिली को एक्‍सपोज करेंगे। ऐश्‍वर्या ने कहा कि 17 दिसंबर को कोर्ट में मामले की सुनवाई होनी है। उसके पहले ही मेरे साथ ऐसा किया। उन्‍हाेंने कहा कि लालू फैमिली से जीत पाना सबके वश की बात नहीं है। दूसरा कोई रहता तो कब के मार-काट कर फेंक देता। उन्‍होंने कहा कि हमलोग फिर कोर्ट जाएंगे।  

इसी पर्चे से बढ़ा विवाद, जानें क्‍या है इसमें 

राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बड़े पुत्र तेज प्रताप और उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय के बीच चल रहा विवाद पर्चा बनकर पटना कॉलेज की दीवार पर भी चिपक गया है। पटना कॉलेज के भाषा भवन पर 'सच्ची खबर' के नाम से चिपकाए गए पर्चा में तेजप्रताप का पक्ष लेते हुए उनके ससुर चंद्रिका राय, सास पूर्णिमा सिंह आदि पर अमर्यादित टिप्पणी की गई है। पर्चा में कहा गया है कि एक सीधे-सादे इंसान को सिर्फ सारण सीट के लिए बलि का बकरा बना दिया गया। लालू प्रसाद की परंपरागत सीट शादी की शर्त के अनुसार चंद्रिका राय को दे दी गई। जिन लोगों ने तेज प्रताप की बेमेल शादी कराई, उनका चेहरा बेनकाब हो गया है। पर्चा में कहा गया है कि वैसे लोग आज तेज प्रताप के घर के मालिक बने हुए हैं और राज परिवार का बड़ा बेटा भगवान राम की तरह वन-वन भटक रहा है। 

29 सितंबर को घर से बाहर निकली थीं ऐश्‍वर्या 

गौरतलब है कि इसी साल 29 सितंबर को भी ऐसा ही फैमिली ड्रामा हुआ था। तब ऐश्‍वर्या घर से बाहर निकल गई थीं। कहा था कि राबड़ी देवी ने घर से बाहर निकाल दिया था। उस समय उन्‍होंने मीसा पर मारपीट का आरोप लगाया था। हालांकि आज ऐश्‍वर्या ने मीडिया से कहा कि 29 सितंबर को केवल घर से निकाला था, उस दिन मारपीट नहीं हुई थी। 

2018 में 12 मई को हुई थी शादी 

लालू के बड़े पुत्र तेजप्रताप के साथ ऐश्वर्या की शादी पिछले साल 12 मई को हुई थी। किंतु शादी के कुछ ही दिनों के भीतर दोनों के बीच तलाक की नौबत आ गई। उसी साल दो नवंबर को तेज प्रताप ने अदालत में तलाक की अर्जी दी।

 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस