पटना [राज्य ब्यूरो]। बिहार में अब गाडिय़ों की खरीद पर अधिक मोटरवाहन कर देना होगा। परिवहन विभाग ने बिहार मोटरवाहन करारोपण (संशोधन) अधिनियम, 2018 आठ सितंबर से प्रभावी कर दिया है। अब बाइक से लेकर कार, बस और सभी श्रेणी व्यावसायिक वाहनों की खरीद पर अधिक निबंधन कर देना होगा।

बाइक की खरीद पर 8 जबकि कार की खरीद पर 9 फीसद कर देना पड़ता है। नई व्यवस्था में बाइक या कार की कीमत के हिसाब से वाहन मालिक को एक्स शोरूम पर चार स्लैब में 8 से 12 फीसद तक कर का भुगतान करना होगा। गाडिय़ों की खरीद पर लगने वाले सीजीएसटी, एसजीएसटी, आइजीएसटी के साथ एक्स शोरूम कीमत पर बढ़े हुआ निबंधन कर का भुगतना करना होगा।

जीएसटी में होने वाले घाटे की भरपाई के लिए सरकार ने यह कदम उठाया है। नई दर आठ सितंबर से प्रभावी हो गई है। खास बात यह है कि वाहन जितना महंगा होगा, टैक्स की दर भी उतनी ही अधिक होगी। व्यावसायिक वाहनों पर लगने वाले कर में हरेक वर्ष पहली अप्रैल को 2 से 3 फीसद का इजाफा हो जाएगा।  

बाइक-कार पर टैक्स की नई दर

कीमत (रुपये) दर (फीसद)

1 लाख रुपए तक

1 लाख से 8 लाख तक

8 लाख से 15 लाख तक 10 

15 लाख से अधिक 12 

व्यावसायिक वाहनों पर इस तरह लगेगा टैक्स

वजन दर (रुपये)

1000 किलोग्राम 8000 रुपये दस साल के लिए 

1001-3000 किलोग्राम 8000+प्रति टन 6500 रुपये 10 साल

3000-10000 किलोग्राम 8000+6500+प्रति टन 750 रुपये 

10000-24000 किलोग्राम 8000+6500+प्रति टन 700 रुपये 

24000 किलोग्राम से अधिक 8000+6500+प्रति टन 600 रुपये

टैम्पो पर टैक्स 

- 4 सीट वाले तिपहिया (चालक छोड़) पर 15 साल के लिए 10 हजार

- तिपहिया जिनका निबंधन एक वर्ष के भीतर हुआ है उन पर 10 वर्ष के लिए 6700 रु.

- 10 वर्ष से अधिक पुराने तिपहिया वाहनों पर अगले 5 साल के लिए 6 हजार

- 7 सीट वाले तिपहिया (चालक छोड़) पर 15 साल के लिए 15 हजार टैक्स

सीट साधारण सेमी डीलक्स-डीलक्स

 13-26 550 675 785

  27-32 600 750 860

 33 या अधिक 700870 1025

Posted By: Kajal Kumari