पटना, जेएनएन। रालोसपा प्रमुख व पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा एक बार फिर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला है। उन्‍होंने रविवार को बिहार में गिरती शिक्षा व्‍यवस्‍था से लेकर बाढ़ की बदहाली तक पर सरकार को निशाना बनाया। खासकर स्‍टूडेंट क्रेडिट कार्ड को लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से अपने फैसले पर फिर से विचार करने को कहा। उन्‍होंने कहा कि नीतीश का बाढ़ग्रस्‍त इलाकों में नीतीश का हवाई सर्वेक्षण दिखावा है। 

रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि स्‍टूडेंट क्रेडिट कार्ड में सत्र लगाना ठीक नहीं है। यह फैसला छात्रों के खिलाफ है। इस फैसल पर नीतीश कुमार फिर से विचार करें और सत्र के निर्णय को वापस लें। उन्‍होंने कहा कि शिक्षा विभाग ने स्टूडेंट क्रेडिट योजना के संबंध में इस महीने यह अधिसूचना जारी की है कि केवल नैक द्वारा 'ए' ग्रेड प्राप्त शिक्षण संस्थानों में नामांकन लेने पर ही योजना का लाभ दिया जाएगा। यह अधिसूचना तब जारी की गई है, जब छात्रों के नामांकन जून माह में हो चुके हैं। अब नामांकन ले चुके छात्र क्या करेंगे? कहां से पैसा लाएंगे? अगर यह निर्णय लेना ही था तो जून से पहले लिया जाता।

कुशवाहा ने कहा कि विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग ने पालिटेकनिक संस्थानों के कुछ प्राचार्यां को दूसरे पालिटेकनिक संस्थानों का अतिरिक्त प्रभार दिया है, मगर इनके प्रभार वाले संस्थान काफी दूर स्थित हैं। वे कैसे दोनों जगहों का प्रबंधन देख सकेंगे। उदाहरण स्वरूप गुलजारबाग स्थित संस्थान के प्राचार्य को भोजपुर, छपरा के प्राचार्य को औरंगाबाद, कटिहार के प्राचार्य को खगडिय़ा का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। इंजीनियरिंग काॅलेजों में बड़ी संख्या में शिक्षकों के पद रिक्त हैं। सरकार तदर्थ व्यवस्था कर काम चला रही है। संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी, फजल इमाम मलिक, राजेश यादव, अभिषेक झा आदि मौजूद थे। 

 

Posted By: Rajesh Thakur