पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार में पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) से 62 पीएसए (Pressure Swing Adsroption) आक्सीजन प्लांट स्थापित किए जाएंगे। केंद्र सरकार ने इसकी स्वीकृति दे दी है। देश भर में ऐसे कुल 1,215 प्लांट स्थापित किए जाएंगे। यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने शुक्रवार को दी। इससे कोरोना की तीसरी संभावित लहर से लड़ने में मदद मिलेगी। 
तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए व्‍यापक तैयारी 
मंत्री ने कहा कि देश भर में आक्सीजन की उपलब्धता के लिए ये प्लांट लगाए जाएंगे। बिहार के विभिन्न जिलों में 62 पीएसए प्लांट लगेंगे। युद्ध स्तर पर यह कार्य शुरू होगा, ताकि जुलाई के अंत तक कार्य को मूर्त रूप दिया जा सके।चौबे ने कहा कि कोविड की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए व्यापक तैयारियां की जा रही हैं। बिहार को 17 जून को एंफोटेरिसिन-बी के 480 वायल का आवंटन हो चुका है। अभी तक 8,540 एंफोटेरिसिन-बी राज्य को उपलब्ध कराई गई है। 
कोरोना काल में झेलनी पड़ी थी ऑक्‍सीजन की किल्‍लत 
कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्‍सीजन की भारी किल्‍लत हो गई थी। स्थिति ऐसी हो गई ऑक्‍सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी की जाने लगी थी। कई जगहों से ऐसी खबरें आईं कि ऑक्‍सीजन के बिना कोरोना संक्रमित की जान चली गई। ऐसे में राज्‍य सरकार ने भी कई जगहों पर ऑक्‍सीजन प्‍लांट की व्‍यवस्‍था की। अस्‍पतालों में प्‍लांट लगाए गए। लेकिन इस दौरान कोरोना संक्रमितों की जान पर बनी रही। अब कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए सरकार अभी से तैयारी में जुट गई है ताकि उस समय किसी तरह की आपात स्थिति का सफलतापूर्वक सामना किया जा सके।   
 
 

Edited By: Vyas Chandra