सिवान, जागरण संवाददाता। जिले के बड़हरिया के लकड़ी दरगाह में असामाजिक तत्वों ने उपद्रव कर दिया। इसके विरोध में दूसरे पक्ष ने सड़क जाम कर दिया। बाजार की दुकानें बंद कर दी। उनका कहना है कि जब तक उपद्रवियों को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा तब तक लकड़ी दरगाह की दुकानें बंद रहेगी और मूर्ति का विसर्जन नहीं किया जाएगा। गांव में तनाव की स्थिति को देखते हुए पुलिस कैंप कर रही है। दोनों पक्षों को समझाने-बुझाने का प्रयास किया जा रहा है। लोगों का कहना है कि पुलिस की लापरवाही से पूरी घटना हुई है। 

छेड़खानी के बाद रात में कर दिया पथराव 

दुर्गा पूजा सेवा समिति के अध्यक्ष संतोष चौहान ने बताया कि शुक्रवार की सुबह 11:30 बजे कुछ उचक्‍कों ने पूजा कर रही महिलाओं से छेड़छाड़ की। इस पर विवाद हुआ हालांकि, कुछ लोगों ने बातचीत से मसले को हल कर दिया। लेकिन रात में वही लोग पहुंच गए और पंडाल में घुसकर पथराव कर दिया। इस घटना में लकड़ी दरगाह के लक्ष्मण शाह, सत्येंद्र शाह, चंदन शाह और राजकुमार शाह गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों का गोरखपुर में इलाज चल रहा है। घटना के बाद तनाव की स्‍थि‍ति है। लोगों  ने सड़क जाम कर दिया है, और सभी दुकानें बंद है। ग्रामीणों का कहना है कि जब तक अभियुक्तों को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा, तब तक दुकानें बंद रहेंगी। मूर्ति विसर्जन भी नहीं होगा।

पुलिस पर लगा रहे लापरवाही का आरोप 

बताया जाता है कि एक गुट की ओर से शुक्रवार रात पार्टी दी गई थी। इसी में जुटे लोगों ने इस तरह का उपद्रव किया है। आरोप है कि उस पक्ष की ओर से हमेशा हंगामा किया जाता है। पहले भी कई बार सामाजिक सौहार्द्र बिगाड़ने का प्रयास वे लोग कर चुके हैं। लोगों का कहना है कि शुक्रवार रात यदि पुलिस एक्टिव रहती तो इस तरह की घटना नहीं होती।  कुल म‍िलाकर यह पुलिस की लापरवाही का नतीजा है। 

 

Edited By: Vyas Chandra