पटना, जेएनएन। Bihar CoronaVirus Update: पटना के अखिल भारतीय आनुर्विज्ञान संस्‍थान (Patna AIIMS) में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) और हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक (Bharat Biotech) द्वारा निर्मित पहली देसी कोरोना वैक्सीन (COVID Vaccine) के दूसरा चरण मानव परीक्षण (Second Phase Human Trial) बुधवार को पूरा हो जाएगा। वैक्सीन परीक्षण के नोडल पदाधिकारी एवं पटना एम्‍स के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सीएम सिंह ने बताया कि दूसरे चरण में 46 वालंटियरों को वैक्सीन की पहली और 44 को दूसरी खुराक दी जा चुकी है। शेष दो वालंटियर को दवा देने के साथ बुधवार को दूसरा चरण भी पूरा हो जाएगा। आगे आइसीएमआर से अनुमति मिलने के बाद तीसरे चरण का परीक्षण शुरू होगा।

पहले चरण में 44 वालंटियरों को दी गई थी वैक्सीन की खुराक

डॉ. सीएम सिंह ने बताया कि परीक्षण के पहले चरण (First Phase) में 44 वालंटियरों को वैक्सीन दी गई थी। इसके चार सैंपल शोध के लिए आइसीएमआर भेजे जा चुके हैं। पांचवां सैंपल 22 अक्टूबर को भेजा जाएगा। इसके बाद शोधकर्ता यह आकलन करेंगे कि वैक्सीन देने के बाद कोरोना के खिलाफ शरीर में कितनी एंटीबॉडी बनी है।

अबतक 11 महिलएं भी वैक्सीन परीक्षण के लिए आईं आगे

अबतक 11 महिलाएं भी वैक्सीन परीक्षण के लिए स्वेच्छा से आगे आई हैं। परीक्षण के प्रथम चरण में तीन महिलाएं और दूसरे चरण में आठ महिलाएं वालंटियर बनी हैं।

पांच विशेषज्ञों की टीम कर रही स्वास्थ्य की निगरानी

जिन लोगों को वैक्सीन की खुराक दी गई है, उनके स्वास्थ्य की निगरानी (Moitoring of Health) के लिए एम्स प्रबंधन (AIIMS Administration) ने पांच विशेषज्ञों की टीम बनाई है। सतत निगरानी के दौरान दोनों चरण के परीक्षण में अबतक किसी वालंटियर में कोई दुष्प्रभाव देखने को नहीं मिला है। तीसरे चरण का परीक्षण ऐसे लोगों पर किया जाएगा, जिन लोगों की मधुमेह, उच्चरक्तचाप, मोटापा आदि के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता पहले से काफी कम है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस