पटना। छठ महापर्व को लेकर गंगा घाटों पर जबर्दस्त सुरक्षा व्यवस्था दिखेगी। नासरीगंज से दीदारगंज तक 25 किमी तक गंगा तट पर जगह-जगह व्रतियों के लिए 101 घाट बने हैं। इन घाटों को 21 सेक्टरों में बांटा गया है। घाटों के ऊपरी हिस्से में दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी और सुरक्षा बल तैनात रहेंगे तथा नदी में बैरिकेडिंग के बाद एनडीआरएफ के 450 जवान 70 मोटरबोट के साथ लगातार गश्त लगाते रहेंगे। अशोक राजपथ में छठ महापर्व के दौरान सिर्फ व्रतियों के साथ आने-जाने वाले वाहन ही चलेंगे। व्यवसायिक वाहनों का परिचालन बंद रहेगा। सीसीटीवी कैमरों से हर गतिविधि पर नजर रखी जाएगी। टावर पर तैनात कर्मी सीधे नियंत्रण कक्ष से जुड़ा रहेगा। घाटों पर आतिशबाजी पर प्रतिबंध रहेगा।

जिलाधिकारी कुमार रवि ने दंडाधिकारियों और पुलिस पदाधिकारियों को छठ महापर्व पर शनिवार को बापू सभागार में ब्रीफिंग करते हुए कहा कि छठ घाट तैयार हो गए हैं। रविवार से सभी की प्रतिनियुक्ति सुबह छह बजे से की गई है। तैनाती स्थल की सभी व्यवस्था की जवाबदेही वहां तैनात पदाधिकारी की होगी। डीएम ने कहा कि भीड़ नियंत्रण और ट्रैफिक प्रबंधन को चुनौती के रूप में लेकर कार्य करें। व्रतियों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। अफवाह से सावधान रहें और व्रतियों को भी लगातार इस बारे में जागरूक करें। शाति एवं विधि-व्यवस्था के साथ-साथ दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, पुलिस बल से साथ-साथ गोताखोर, चिकित्सा दल, एम्बुलेंस के साथ चिकित्सक एवं विद्युत विभाग के पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति गंगा नदी के विभिन्न घाटों पर की गई है। गंगा घाटों पर 314 अस्थायी शौचालय, 556 अस्थायी यूरिनल एवं 90 चापाकल, 609 अस्थायी चेंजिंग रूम, यात्री शेड एवं 200 वाच टावर की व्यवस्था की गई है। इसके साथ नाविक, गोताखोर घाटों पर तैनात रहेंगे। ट्रैफिक पुलिस के भरोसे न रहें थानेदार

इस अवसर पर एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि पुलिस बल की कमी का रोना न रोएं। इच्छाशक्ति रखते हुए भीड़ को नियंत्रित करें। बड़ी संख्या में फोर्स की तैनाती की गई है। 10 क्विक टीम हमेशा भ्रमणशील रहेगी। पिछले वर्ष से भी बेहतर प्रदर्शन करके दिखाएं। किसी भी स्थिति में चूक नहीं होनी चाहिए। सिटी एसपी डी अमरकेश ने कहा कि थानेदारों को ट्रैफिक व्यवस्था संभालनी है। एक जगह जाम के बाद स्थिति भयावह हो जाएगी। ट्रैफिक पुलिस के भरोसे नहीं रहना है। व्रतियों के आने और वापस जाने तक मुस्तैद रहना है। एक हजार से ज्यादा सफाई मजदूर तैनात

नगर आयुक्त अनुपम कुमार सुमन ने कहा कि गंगा घाट और तालाब तैयार हो गए हैं। सफाई के साथ रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। प्रत्येक घाट पर एक सुपरवाइजर दस-दस सफाई मजदूर के साथ तैनात किए गए हैं। एक हजार से अधिक सफाई मजदूर सिर्फ गंगा घाटों पर तैनात किए गए हैं। श्रद्धालुओं के घरों की सुरक्षा के लिए होगी पेट्रोलिंग

पटना प्रक्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक राजेश कुमार ने प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारियों एवं सेक्टर दंडाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्ण सावधानी एवं मुस्तैदी से अपने कर्तव्य का पालन करें। व्रती घर में ताला बंद करके घाट पर आ जाते हैं। श्रद्धालुओं के घरों की सुरक्षा के लिए सभी थाना प्रभारी पेट्रोलिंग की व्यवस्था करेंगे। पुलिस गश्ती भी की जाए। चोरी की घटनाएं बढ़ जाती हैं। इसपर ध्यान रखें। डीआईजी ने कहा कि कोई घटना घटे तो इसकी सूचना नियंत्रण कक्ष को दें। घाटों पर ठहरने के लिए बनाया गया शेड

बहुत सारे व्रती घाट पर ही रहते हैं। उनके लिए जिला प्रशासन ने शेड बना दिया है। दीघा पाटीपुल घाट, 93 घाट, संत माइकल के बगल में 83 नंबर घाट, बालू पर घाट, राजापुर पुल घाट, बांसघाट, कलेक्ट्रेट घाट, महेंद्रू घाट, पटना लॉ कॉलेज घाट सहित 10 घाटों पर शेड की व्यवस्था की गई है।

Posted By: Jagran