पटना। पटना जंक्शन समेत पांच स्टेशनों को उड़ाने की धमकी देने वाले शख्स की तलाश में मंगलवार को रेल पुलिस की टीम दरभंगा पहुंची। जिस मोबाइल नंबर से अंबाला छावनी रेलवे स्टेशन के कंट्रोल रूम के हेल्पलाइन पर कॉल की गई थी, वह मधुबनी जिले के सकरी थानान्तर्गत विक्रमपुर गांव निवासी विधेश्वर पासवान की पत्नी नीतू पासवान के नाम पर रजिस्टर्ड है। फिलवक्त, दंपती दरभंगा के सूर्या अपार्टमेंट में रहते हैं। अधिकारिक सूत्रों की मानें तो पुलिस ने दंपती को हिरासत में ले लिया है। पूछताछ के दौरान पता चला कि दंपती का बेटा 26 मार्च को सकरीपुर हॉल्ट के पास रेल हादसे में जख्मी हो गया था। इसी क्रम में उसका मोबाइल कहीं गुम हो गया। मोबाइल गायब होने के बाबत उस लड़के ने जीआरपी में सनहा भी दर्ज कराया था, लेकिन नंबर बंद कराना भूल गए। हालांकि, पुलिस दंपती से लगातार पूछताछ कर रही है। उसके परिवार और घर के बारे में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है।

भिवानी में मिली अंतिम लोकेशन :

धमकी भरी कॉल जब आई थी, उस समय मोबाइल की लोकेशन अंबाला की थी। वह मोबाइल मंगलवार की सुबह तक सक्रिय था। उसकी आखिरी लोकेशन भिवानी में मिली। पुलिस हिरासत में ली गई संदिग्ध महिला का हरियाणा, अंबाला और भिवानी कनेक्शन खंगाला जा रहा है। वहीं, दूसरी तरफ पुलिस यह भी मान रही है कि मोबाइल किसी शरारती तत्व के हाथ लग गया, जिसनें धमकी दी। सूत्र बताते हैं कि सिम कार्ड इस्तेमाल अब तक उसी मोबाइल सेट में किया जा रहा है, जो महिला के पास था।

क्या है मामला :

सोमवार की दोपहर अंबाला छावनी रेलवे स्टेशन के कंट्रोल रूम के हेल्पलाइन नंबर पर किसी ने कॉल कर खुद को अलकायदा के ओसामा का छोटा भाई मसूद अजहर बताया था। उसने पटना जंक्शन, अंबाला, दरभंगा, अमृतसर, जम्मू और जालंधर के रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी दी थी। इसके बाद देशभर के सभी रेलवे स्टेशनों पर अलर्ट जारी कर दिया गया। आरपीएफ और जीआरपी की टीमें सुरक्षा की जांच में जुट गई थीं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस