पटना।: सूबे के नक्सल व लेफ्ट विंग एक्सट्रीमिशम (एलडब्ल्यूई) प्रभावित इलाकों में लगभग एक दर्जन नए थाने खोलने की तैयारी है। इसके लिए पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों से उन प्रभावित इलाकों की सूची मांगी है, जहां पर्याप्त सुरक्षा नहीं होने के कारण आतंक का माहौल है।

पुलिस महानिरीक्षक (मुख्यालय) पारसनाथ के मुताबिक भागलपुर सहित कई अन्य जिलों के पुलिस अधीक्षकों ने अब तक सूची मुहैया नहीं कराई है। उन्हें ताकीद भेजी गई है।

गृह मंत्रालय का है निर्देश

नक्सल संगठनों और एलडब्ल्यूई की गतिविधियों को रोकने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बिहार पुलिस मुख्यालय से प्रभावित क्षेत्रों में नए थाने सृजन करने का निर्देश दिया था। इसके आलोक में पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों से सुरक्षा विहीन प्रभावित इलाकों की सूची मांगी है।

बढ़ सकते हैं एक दर्जन थाने

राज्य में खुल 1017 थाने हैं। लगभग पांच सालों में 200 से अधिक नए थाने खोले गए। पटना, रोहतास, बगहा, लखीसराय, गया, नवादा, जहानाबाद, भोजपुर, बांका, जमुई, नालंदा, मुंगेर, औरंगाबाद और अरवल में एक दर्जन नए थानों का सृजन किया जा सकता है।

पटना के छह थाने नक्सल प्रभावित

वर्तमान में पटना में 75 थाने हैं, जिनमें से छह नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में है। वहीं जमुई, लखीसराय, गया और बांका के अधिकांश थाना क्षेत्र नक्सलियों की मांद में बसे हैं। उन थाना क्षेत्रों का बड़ा हिस्सा पुलिस की पहुंच से बाहर है। पर्याप्त बल और संसाधन की कमी के कारण पुलिस उन क्षेत्रों में जाने से कतराती है। नक्सल ऑपरेशन चलाने के बाद वहां नए थाने खोले जाएंगे, जहां 24 घंटे बल की तैनाती रहेगी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप