किशनगंज [जेएनएन]। नेता प्रतिपक्ष सह राजद नेता तेजस्वी यादव ने शुक्रवार को बेलवा स्थित हाई स्कूल परिसर में कांग्रेस प्रत्याशी जावेद आजाद के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित किया। उन्होंने केंद्र व राज्य सरकार पर तीखा प्रहार किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के सामने केवल हिन्दू-मुस्लिम, मंदिर-मस्जिद और मॉबलिंचिंग का मुद्दा है। इस कारण विकास का मुद्दा गौण हो गया है। लोगों को पता ही नहीं चल रहा है कि देश के विकास का एजेंडा क्या है। 

तेजस्वी ने आगे कहा कि युवाओं को रोजगार नहीं मिला। काम के लिए बाहर जाने वाले मजदूरों का जीवन भी सुरक्षित नहीं है। राजनीति में पीएम मोदी को लालू प्रसाद यादव ही चुनौती दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि पीएम भी इस बात को समझते हैं कि राजद प्रमुख के बाहर रहते दंगा-फसाद व नफरत की राजनीति सफल नहीं हो सकती। यही वजह है कि लालू प्रसाद यादव पर 35 केस दर्ज करवा दिए गए। 

उन्होंने कहा कि धर्मनिरपेक्षता की रक्षा के लिए 1990 में मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए लालू यादव ने लाल कृष्ण आडवाणी की रथयात्रा को बिहार की धरती पर रोक दिया। इसी का परिणाम है कि आज वे जेल में हैं। अब तो हालात यह है कि बीजेपी के पक्ष में रहेंगे तो राजा हरिशचंद्र कहलाएंगे और इनके विपक्ष में काम करने पर सीबीआइ और ईडी जैसी जांच एजेंसियां पीछे लगेंगी। 

मुख्यमंत्री पर कटाक्ष करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि राजद प्रमुख ने कभी भी अपने फायदे के लिए राजनीति से समझौता नहीं किया, लेकिन चाचाजी कभी-कभी समझौता कर भी लेते हैं। पूर्व में उन्होंने कहा था कि मिट्टी में मिल जाएंगे, लेकिन भाजपा में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने मतदाताओं से सोच-समझकर अपने मताधिकार का प्रयोग करने की बात कही।

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप