पटना [राज्य ब्यूरो]। तेजप्रताप यादव के रवैये से लालू परिवार की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं। युवाओं को आगे बढ़ाने के बहाने तेजप्रताप ने पार्टी नेतृत्व से अलग मोर्चा खोल दिया है। दो संसदीय सीटों से वह अपनी पसंद के प्रत्याशी उतारने वाले हैं। दावेदारों को संकेत कर दिया है। जहानाबाद से उनके करीबी चंद्र प्रकाश यादव अगले 24 अप्रैल को नामांकन दाखिल करेंगे। राजद ने यहां से पूर्व सांसद सुरेंद्र यादव को प्रत्याशी बनाया है। 

तेजप्रताप के प्रत्‍याशी करेंगे नामांकन

जहानाबाद और शिवहर से पटना मिलने आए अपने समर्थकों को तेजप्रताप ने आश्वस्त किया है कि अभी भी वक्त है। मेरी बात नहीं मानी गई तो चंद्रप्रकाश 24 अप्रैल को नामांकन करेंगे। मैं उनका समर्थन करूंगा। राजद ने शिवहर से प्रत्याशी का ऐलान नहीं किया है। तेजप्रताप ने कहा कि तेजस्वी से उनकी बात हुई है। वहां से अंगेश सिंह को सिंबल देने का आग्र्रह किया है। तेजस्वी ने दो दिन की मोहलत मांगी है। अगर अंगेश को भी टिकट नहीं मिला तो वह भी पर्चा भरेंगे। 

तेजप्रताप बोले, युवाओं को आगे बढ़ाने की जरूरत

तेजप्रताप ने कहा कि पार्टी में युवाओं को आगे बढ़ाने की जरूरत है, किंतु मेरी बात नहीं सुनी जा रही है। जहानाबाद पर तेजस्वी ने मुझे असमंजस में रखा। इसी बीच तीन बार से हारते आ रहे सुरेंद्र यादव को टिकट दे दिया गया। लोग उन्हें पसंद नहीं कर रहे हैं। 

मीसा के स्‍टार प्रचारक नहीं बनाए जाने से भी नाराज

पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक के लिए अर्जी देने के बाद से लालू-राबड़ी के सरकारी आवास से अलग रहते आ रहे तेजप्रताप कई वजहों से पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे हैं। बड़ी बहन डॉ मीसा भारती को स्टार प्रचारकों की सूची से बाहर रखे जाने के बाद से तेज प्रताप ज्यादा मुखर हो गए हैं। वह अपने ससुर चंद्रिका राय को भी सारण से राजद के सिंबल पर लडऩे देने के पक्ष में नहीं हैं। इसके लिए पार्टी नेतृत्व पर दबाव भी बनाया। महागठबंधन के प्रत्याशियों के संयुक्त ऐलान से कुछ घंटे पहले ही उन्होंने जहानाबाद और शिवहर से पसंदीदा प्रत्याशियों को टिकट दिलाने की कोशिश की, लेकिन परिवार और पार्टी नेतृत्व ने उनके दबाव को खारिज करते हुए चंद्रिका को सारण से राजद का प्रत्याशी घोषित कर दिया। पार्टी के ऐलान के बाद तेजप्रताप को चोट पहुंची। उन्होंने सारण से खुद ही निर्दलीय उतरने का एलान कर दिया।

सुरेंद्र से क्यों खफा हैं तेजप्रताप

जहानाबाद के राजद प्रत्याशी सुरेंद्र यादव और तेजप्रताप का सरकारी आवास पटना में अगल-बगल है। पिछले महीने एक बारात सुरेंद्र यादव के आवास के बाहर आई थी। लाउडस्पीकर बजाने को लेकर सुरेंद्र और तेजप्रताप के समर्थकों के बीच झगड़ा हो गया। तेज प्रताप के समर्थक चाहते थे कि लाउडस्पीकर बंद कर दिया जाए, किंतु सुरेंद्र के समर्थक नहीं माने। इसी बात पर दोनों तरफ से मारपीट हो गई। बात थाने तक पहुंच गई। हालांकि बाद में दोनों पक्षों में बीच-बचाव हो गया, किंतु तल्खी कम नहीं हुई। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप