पटना, जेएनएन। कोरोना संक्रमण रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के दौरान चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर रविवार से जरूरतमंद लाेगों के लिए 'सबकी रसोई' नामक अभियान शुरू कर रहे हैं। पहले चरण में पटना सहित देश के 20-25 शहरों में रोजाना डेढ़ लाख लोगों को भोजन के पैकेट पहुंचाने का लक्ष्‍य रखा गया है। इसके लिए खाना फूड डिलीवरी चेन 'स्‍वीगी' उपलब्‍ध कराएगा तो उसका वितरण एनजीओ के माध्‍यम से कराया जाएगा। पटना की बात करें तो यहां जिला प्रशासन भी दवाओं की होम डिलीवरी में फूड डिलीवरी चेन 'स्‍वीगी' और 'जोमैटो' की सेवाएं लेगा।

प्रशांत किशोर ने शुरू किया 'सबकी रसोई' कार्यक्रम

कोरोना संकट के दौरान लॉकडाउन में सरकार व प्रशासन के अलावा निजी स्‍तर पर भी जरूरतमंद लोगों की मदद को हाथ आगे बढ़ रहे हैं। चुनावी रणनीतिकार व बिहार में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी रह चुके जनता दल यूनाइटेड के पूर्व उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर ने अपनी संस्‍था आई-पैक (इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी) के माध्‍यम से 'सबकी रसोई' नामक कार्यक्रम आरंभ किया है। यह कार्यक्रम रविवार से देश के करीब दो दर्जन शहरों में आरंभ हो रहा है।

पहले चरण में डेढ़ लाख लोगों को दिया जाएगा भोजन

आइ-पैक के अनुसार करोना संकट से लोग परेशान हैं। इसका सर्वाधिक प्रभाव मजदूरों व बेघरों पर पड़ रहा है। ऐसे ही जरूरतमंद लोगों को हर दिन भोजन उपलब्‍ध कराने के लिए यह कार्यक्रम शुरू किया गया है। पहले चरण में देश के 20-25 शहरों में रोजाना डेढ़ लाख लोगों को भोजन के पैकेट पहुंचाने का लक्ष्‍य है। देश भर में एक हजार से अधिक युवा कार्यक्रम को चलाएंगे। इसके पहले एक अप्रैल से इस कार्यक्रम को सीमित दायरे में लागू करते हुए चुनिंदा शहरों में 25 से 45 हजार भोजन पैकेट वितरित किए गए।

पटना में खाना बनाने के लिए फूड चेन 'स्‍वीगी' से करार

आई-पैक के अनुसार पटना में उसने खाना बनाने के लिए स्वीगी (Swiggy) तथा खाना के वितरण के लिए एक स्‍वयंसेवी संस्‍था से टाई-अप किया है। पटना के गांधी मैदान और एग्जिबिशन रोड इलाकों में यह सेवा आज शुरू की जा रही है। आगे आवश्‍यकतानुसार इसे शहर के अन्‍य भागों तथा राज्‍य के दूसरे शहरों में भी बढ़ाया जाएगा।

पटना में घर-घर दवाएं भी पहुंचाएंगे स्‍वीगी व जोमैटो

उधर, लॉकडाउन के दौरान पटना में जरूरतमंदों को दवाओं की होम डिलीवरी के लिए जिला प्रशासन ने भी स्‍वीगी व जोमैटो के साथ संपर्क किया है। जिलाधिकारी कुमार रवि ने इसके लिए व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया है।

घर में ही रहें, जरूरी काम से निकलना हो लें ई-पास

इसके अलावा डीएम ने पटना के गोविेंद मित्रा रोड  में कुछ दवा दुकानों  के बंद रहने की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए  जांच करा संबंधित दुकानदारों को नोटिस जारी किया है। उन्‍होंने मास्क, ग्लव्स व सैनिटाइजर आदि की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। उन्‍होंने होम क्वारंटाइन के दिशा-निर्देश का सख्‍ती से पालन करने का निर्देश भी दिया। अति आवश्यक कार्य के लिए लोग पटना जिले की वेबसाइट पर आवेदन देकर वाहन परिचालन पास ले सकते हैं। संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी भी इसी वेबसाइट पर प्राप्त आवेदन के आलोक में ई-पास जारी करेंगे। आवेदक को आवेदन की  स्थिति की जानकारी एसएमएस व ई-मेल से मिल जाएगी।

 

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस