पटना [राज्य ब्यूरो]। पिछले साल 14 सितंबर को गया के एक साइबर कैफे से पकड़ा गया तौसीफ अहमद उर्फ तौफीक पठान देश के विभिन्न राज्यों में छुपे आतंकियों के साथ लगातार संपर्क में रहा है। वह वर्ष 2008 में अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट का मुख्य आरोपी है। जिस कंप्यूटर से तौसीफ ई-मेल व चैटिंग किया करता था, उसकी हार्डडिस्क की जांच में कई खुलासे हुए हैं। फिलहाल इस मामले की जांच एनआइए और बिहार एटीएस कर रही है।

सूत्रों के अनुसार तौसीफ गया के राजेंद्र आश्रम मुहल्ले के एक साइबर कैफे से अक्सर ई-मेल और चैटिंग करता था। जब साइबर कैफे वाले ने तौसीफ से उसके पहचान पत्र की मांग की तो इसे उपलब्ध नहीं करा सका। बाद में साइबर कैफे संचालक ने इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी और तब मौके पर ही तौसीफ को गिरफ्तार कर लिया गया।

एनआइए व बिहार एटीएस की टीम ने उक्त साइबर कैफे के दो कंप्यूटर के हार्डडिस्क को जब्त कर उसकी जांच शुरू की। जांच में पता चला कि तौसीफ गया में रहकर न केवल दिल्ली, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, गुजरात, केरल, कर्नाटक में अपने साथियों को ई-मेल भेजा करता था बल्कि विदेशों में पाकिस्तान से लेकर बंगलादेश तक अपने आतंकी साथियों के संपर्क में था। एक अधिकारी ने बताया कि जब्त कंप्यूटर से उपलब्ध जानकारियों के आधार पर एनआइए की टीम देश के विभिन्न राज्यों की एटीएस के साथ काम कर रही है।  

Posted By: Ravi Ranjan