राज्य ब्यूरो, पटना । सफाई के मामले में पटना को देश के 45 बड़े शहरों में 38वां स्थान मिला है। स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 की शनिवार को जारी रिपोर्ट में, 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों की श्रेणी में रांची, लुधियाना, श्रीनगर, कोयंबटूर, चेन्नई और मदुरई जैसे शहरों की तुलना में पटना को ज्यादा स्वच्छ पाया गया है। पिछले सर्वेक्षण की तुलना में पटना की रैंकिंग में छह अंकों का सुधार हुआ है।

कैंटोनमेंट शहरो में दानापुर कैंट को 32वां स्थान

सबसे बड़ा पुरस्कार कटिहार जिले के मनिहारी के खाते में आया है। पूर्वी क्षेत्र में 25 से 50 हजार की आबादी वाले शहरों में मनिहारी को स्वच्छता की राह पर तेजी से बढ़ते शहर (फास्ट मूविंग सिटी) का खिताब दिया गया है। देश के 62 कैंटोनमेंट शहरो में दानापुर कैंट को 32वां स्थान मिला है। राज्य के ओवरआल प्रदर्शन की बात करें तो 100 से अधिक शहरी निकायों वाले 13 राज्यों में बिहार को 11वां स्थान मिला है। कर्नाटक और तमिलनाडु जैसे राज्य बिहार से पीछे हैं। 

382 शहरों में बिहार के 25 शहरों ने बनाई अपनी जगह

एक से 10 लाख की आबादी वाले देश के 382 शहरों में बिहार के 25 शहरों ने अपनी जगह बनाई है, मगर शुरुआती 150 शहरों में बिहार का एक भी शहर नहीं है। इस श्रेणी में बिहार की ओर से गया को पहला स्थान मिला है, लेकिन उसकी राष्ट्रीय रैंकिंग 179 है। बेतिया को 233वां, छपरा को 240वां, मुजफ्फरपुर को 247वां, बेगूसराय को 251वा, बिहारशरीफ को 255वां स्थान मिला है। पटना से सटे दानापुर को 354वां और भागलपुर को 358वें स्थान से संतोष करना पड़ा है। पूर्वी जोन में 25 से 50 हजार की आबादी वाले शहरों में बिहार के 65 शहर चुने गए इसमें बिहिया को 48, अरेराज को 52, बोधगया को 61, राजगीर को 72 और खगड़िया को 73वां स्थान मिला। पूर्वी जोन के 50 हजार से एक लाख की आबादी वाले शहरों में राज्य के 27 शहर चुने गए। इसमें सुपौल 11वें, सुल्तानगंज 20वें, डुमरांव 28वें, मोकामा 30वें, फुलवारीशरीफ 33वें, बाढ़ 36वें, फतुहा 40वें और मसौढ़ी 41वें स्थान पर रहा। पूर्वी जोन के 15 से 25 हजार की आबादी वाली श्रेणी में मधुबनी का घोघरडीहा 51वें स्थान पर जबकि बिक्रम 81वें स्थान पर रहा।

गंगा किनारे बसे शहरों में सुल्तानगंज-मुंगेर आगे 

गंगा के किनारे बसे शहरों की रैंकिंग में एक लाख से कम आबादी वाले शहरों में बिहार का सुल्तानगंज राष्ट्रीय स्तर पर चौथे स्थान में रहा है। एक लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में पटना और मुंगेर की रैंकिंग पिछले साल की तुलना में गिरी है। पिछले साल मुंगेर दूसरे स्थान पर था जबकि इस बार राष्ट्रीय रैंकिंग में पांचवें स्थान पर है। वहीं गंगा शहरों की श्रेणी में पटना तीसरे स्थान से नौवें स्थान पर पहुंच गया है। इस श्रेणी में हाजीपुर छठें, भागलपुर सातवें और बक्सर आठवें स्थान पर है। 

स्वच्छता की राह पर तेजी से बढ़ता शहर

पूर्वी जोन (25-50 हजार आबादी ) : मनिहारी

एक से 10 लाख की आबादी वाले बिहार के स्वच्छ शहर

शहर          रैंक

गया            179

बेतिया        233

छपरा          240

मुजफ्फरपुर 247

बेगूसराय     251

बिहारशरीफ 255

बक्सर         264

मोतिहारी     275

दरभंगा      278

डालमियानगर 279

पूर्णिया       290

सहरसा      297

जमालपुर   311

औरंगाबाद  317

बगहा         320

जहानाबाद    327

किशनगंज    345

हाजीपुर        349

मुंगेर          352

कटिहार      353

दानापुर       354

आरा           358

भागलपुर     365

सासाराम     372

सिवान 373

गंगा किनारे वाले शहर (एक लाख से अधिक आबादी )

शहर         रैंक

मुंगेर         05

हाजीपुर     06

भागलपुर   07

बक्सर       08

पटना       09

बेगूसराय  10

जमालपुर  12

छपरा        17

दानापुर     37

गंगा किनारे वाले शहर (एक लाख से कम आबादी )

शहर           रैंक

सुल्तानगंज    04

बड़हिया       12

बाढ़             15

कहलगांव    17

सोनपुर        21

फतुहा         28

बख्तियारपुर 32

मोकामा        43

पूर्वी जोन के शहर (50 हजार से एक लाख आबादी )

शहर      रैंक

सुपौल    11

सुल्तानगंज 20

अररिया    24

डुमरांव     28

मोकामा   30

फुलवारीशरीफ  33

बाढ़         36

फतुहा     40

मसौढ़ी    41

पूर्वी जोन के शहर (25 से 50 हजार आबादी )

शहर    रैंक

बिहिया   48

अरेराज   52

बोधगया  61

राजगीर   72

खगडि़या    73

Edited By: Rahul Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट