पटना [राज्य ब्यूरो]। अंजुमन इस्लामिया हॉल में आयोजित दावत-ए-इफ्तार के मौके पर रोजेदारों को बधाई देते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार और देश की एनडीए सरकार सबका साथ, सबका विकास के लिए काम कर रही है। हिन्दू-मुस्लिम व अन्य सभी धर्म-सम्प्रदायों के लोग आपस में मिलजुल कर रहें तथा राज्य व देश के विकास में अपना योगदान दें।

दावत-ए-इफ्तार का आयोजन उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, सत्तारूढ़ दल के उप मुख्यसचेतक अरुण कुमार सिन्हा व पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन की ओर से किया गया था।

इस मौके पर मोदी ने पत्रकारों को बताया कि राज्य की एनडीए सरकार ने मदरसा बोर्ड से फोकानिया व मौलवी की परीक्षा में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण होने वाले छात्र-छात्राओं को 10 हजार रुपये का वजीफा देने का निर्णय लिया है जबकि पहले केवल मैट्रिक बोर्ड से प्रथम श्रेणी में पास करने वालों को ही यह राशि दी जाती थी।

उन्होंने कहा अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावास में रहने वाले छात्र-छात्राओं को अन्य सुविधाओं के साथ बीपीएल दर पर 15 किग्रा. अनाज (9 किग्रा. चावल और 6 किग्रा. गेहूं) और एक हजार रुपये प्रतिमाह दिया जाएगा। इसके अलावा मुस्लिम परित्यक्ता महिलाओं को दी जाने वाली 10 हजार रुपये की सहायता राशि को बढ़ा कर 25 हजार तथा बिहार राज्य अल्पसंख्यक वित्तीय निगम की हिस्सेदारी को 40 करोड़ से बढ़ा कर 80 करोड़ कर दिया गया है। मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक रोजगार ऋण योजना के तहत 25 करोड़ के स्थान पर इस साल 100 करोड़ खर्च किया जाएगा।

Posted By: Ravi Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप