पटना [राज्य ब्यूरो]। उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने शनिवार को ट्वीट कर कांग्रेस पर तंज किया है। उन्होंने लिखा है कि कांग्रेस महाधिवेशन को यह भी विचार करना चाहिए कि चुनावों से पहले गुजरात-कर्नाटक के मंदिरों में फोटोशूट कराने वाले उसके नेता क्या राममंदिर के बारे में अपनी राय बदलने को तैयार हैं? क्या पार्टी जेएनयू में देश-विरोधी नारे लगाने वालों के साथ खड़ी होने की गलती स्वीकार करेगी?  क्या 132 साल पुरानी पार्टी को तीन तलाक जैसी महिला उत्पीडऩ प्रथा पर अपना पुराना रवैया नहीं बदलना चाहिए? क्षेत्रीय दलों से जोड़-तोड़ कर कांग्रेस चंद उपचुनाव तो जीत सकती है, आम चुनाव नहीं।     

अगले ट्वीट में लिखा है कि केंद्र सरकार ने एकीकृत विद्युत विकास योजना (आइपीडीएस)  के तहत शहरी क्षेत्र में विश्वसनीय विद्युत आपूर्ति प्रबंधन के लिए 28,405 करोड़ रुपये स्वीकृत किये, जिससे देश के 3600 से ज्यादा कस्बों में पावर डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क मजबूत किये जा रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए 72,014 किलोमीटर क्षेत्र में केबल बिछाए जा रहे हैं। 30 दिसंबर 2017 तक बिहार के सभी गावों में बिजली पहुंचा दी गई। एनडीए सरकार शहरी घरों से लेकर गांव की झोपडिय़ों तक लालटेन युग खत्म करेगी।

Posted By: Ravi Ranjan