जागरण टीम, पटना। सनातन संस्कृति चेतना परिषद द्वारा आयोजित संस्कार संस्कृति संरक्षण संगम का आयोजन रविवार को पटना के बापू सभागार में किया गया। इस दौरान सामूहिक हनुमान चालीसा का पाठ हुआ। बिहार में हज भवन की तर्ज पर राज्य सरकार से हिंदुओं की आस्था के अनुरूप पटना और गया में तीर्थ भवन के निर्माण की मांग की गई। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि 19वीं सदी अंग्रेज की, 20वीं कांग्रेस की; 21वीं भारतीय जनता पार्टी के नाम होगी। उन्होंने कहा कि आज भारत में उसके गौरवशाली अतीत से प्रेरित होकर उसी वैभव को पुनः प्राप्त करने की कवायद हो रही है। इस प्रयास में हम जरूर सफल होंगे।

तुलसीदास रचित रामचरित मानस के कई प्रसंगों से उन्होंने समाज निर्माण के कई विषयों को उल्लेखित किया और तुलसी को मध्यकाल का वाल्मीकि बताया। उन्होंने कहा कि तुलसीदास का जीवन हमें संघर्ष से सफलता की सीख देता है। निष्ठा और सम्मान के साथ आगे बढ़ते रहना ही तुलसीदास का मूल मंत्र रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर 173 देशों ने योग के प्रस्ताव को स्वीकारा है। बिहार की धरती पर कई ऐसे लोग हुए जिन्होंने समाज को जोड़ने का काम किया है परंतु कुछ ऐसे लोग भी हुए जिन्होंने बिहार में भूरा बाल साफ करो का नारा दिया। उन्होंने कहा कि त्याग, तपस्या, नैतिकता और संस्कार के साथ जीवन जीना ही ब्राह्मण धर्म है। उन्होंने कहा कि हमें सुपर पावर नहीं बनना है, परंतु 2047 तक भारत को ज्ञान का सागर बनाना है और पुनः सोने की चिड़िया बनाना है।

रामराज्य एक ऐसी सच्चाई जो शीघ्र ही हमारे बीच होगीः ब्रजेश

कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि हम उत्तर प्रदेश को रामराज्य के रास्ते पर लेकर आगे बढ़ रहे हैं। आज जब नरेन्द्र मोदी के राज में भारत दुनिया में प्रसंशा का केंद्र बना है तब रामराज्य एक ऐसी सच्चाई है जो शीघ्र ही हमारे बीच होगी। सनातन जीवन पद्यति को उन्होंने भारत की आत्मा बताया। उन्होंने कहा कि देश को दिशा देने का काम ब्राह्मणों ने किया। संस्कृति और सभ्यता को बचाने का कार्य भी सदैव ब्राह्मणों ने किया। बिहार के ब्राह्मण चाणक्य के वंशज हैं परंतु उनको लेकर नाकारात्मक भ्रांतियां फैलाई जाती हैं। 

भारत की आत्मा में सनातन परंपराः तारकिशोर

बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास ने रामायण की रचना कर सनातन संस्कृति एवं मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम को जीवंत बना दिया। आज भी उनके लिखित दोहे हमारे जीवन के लिए प्रासंगिक बने हुए हैं। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा. संजय जायसवाल ने कहा कि भारत की आत्मा में सनातन परंपरा है। इससे दूर होकर भारत अपने गौरव को हासिल नहीं कर सकेगा।

बिहार में हज भवन के तर्ज पर बने तीर्थ भवन:  मिथिलेश तिवारी

भाजपा के उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक मिथिलेश तिवारी ने बिहार सरकार से पटना एवं गया में हिंदू तीर्थयात्रियों के लिए हज भवन के तर्ज पर तीर्थ भवन के निर्माण की मांग की। उन्होंने कहा की हिंदू और सनातन परंपरा को मानने वालों को कमजोर नहीं समझना चाहिए और अविलंब इस मांग को पूरा करना चाहिए।

एकता ही हमारे मार्ग को करेगी प्रशस्त

केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने सनातन संस्कृति को मानने वाले सभी लोगों को एकजुटता दिखाने की मांग की। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि हमारी एकता ही हमारे मार्ग को प्रशस्त करेगी। आज लोग तुलसीदास के दोहों का गलत अर्थ निकाल कर समाज को तोड़ने का काम करते हैं। तुलसीदास ने अपनी रचनाओं में समाज की कुरीतियों पर निरंतर प्रहार किया है। विवेकानंद की भविष्यवाणी 21वीं सदी में भारत विश्व गुरु बनेगा आज नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सच साबित होती दिख रही है।

भारत को वैभवशाली बनाने के लिए प्रयत्न करेंः मनोज तिवारी

कार्यक्रम में सभी का स्वागत स्वस्ति वाचन तथा हनुमान चालीसा के गायन से किया गया, जिसे दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष एवं सांसद मनोज तिवारी ने पाठित किया। मनोज तिवारी ने भी अपने संबोधन में सांस्कृतिक तौर पर एकीकरण की बात की और कहा कि भविष्य की राह इसी तथ्य से निकलती है कि हम एक होकर भारत को वैभवशाली बनाने के लिए प्रयत्न करें। उन्होंने कहा कि एक साथ 5000 से अधिक लोग पहली बार हनुमान चालीसा का पाठ कर रहे हैं। कार्यक्रम का संचालन भाजपा के प्रदेश महामंत्री सुशील चौधरी एवं धन्यवाद ज्ञापन डा. मनोज कुमार ने किया। कार्यक्रम में भाजपा के सह प्रभारी हरीश द्विवेदी, गोपालजी ठाकुर बिहार सरकार के मंत्री आलोक रंजन झा, विधायक विनोद नारायण झा, रिंकी पांडेय, भाजपा की मंत्री सजल झा, प्रदेश मीडिया प्रभारी राजेश झा, राकेश सिंह, प्रवक्ता संतोष पाठक सहित युवा मोर्चा के प्रदेश महामंत्री धर्मेंद्र तिवारी, धीरज पांडेय, विकास कुमार, अर्जित शास्वत, मनीष तिवारी, सीताराम पांडे, विनोद ओझा, शशिकांत ओझा, सहित हजारों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Edited By: Akshay Pandey