जागरण संवाददाता, पटना : पटना जिला परिषद की सत्ता पर लगातार तीसरी बार आधी आबादी काबिज हुई। कड़ी सुरक्षा में समाहरणालय परिसर हिंदी भवन सभागार में जिलाधिकारी डा. चंद्रशेखर सिंह की अध्यक्षता में अध्यक्ष पद के चुनाव में कुमारी स्तुति और उपाध्यक्ष आशा देवी चुनीं गईं। चुनाव के लिए रोहतास के उप-विकास आयुक्त प्रेक्षक बनाए गए थे। अध्यक्ष पद के लिए निवर्तमान अध्यक्ष अंजु देवी ने और कुमारी स्तुति ने नामांकन दाखिल किया। जिप के सभी 45 सदस्यों ने मतदान में हिस्सा लिया। दोनों अभ्यर्थी के समक्ष मतपेटिका खोलकर वोटों की गिनती की गई। अंजू देवी को 13 और कुमारी स्तुति को 32 वोट मिले। जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी ने कुमारी स्तुति को विजयी घोषित किया। उपाध्यक्ष पद के लिए आशा देवी और चंदन कुमार ने नामांकन किया। आशा देवी को 31 मत और चंदन कुमार को 14 मत प्राप्त हुए। निर्वाची पदाधिकारी ने आशा देवी को उपाध्यक्ष पद पर विजयी होने की घोषणा की। 

समय से पहले पहुंचे सदस्य 

जिप अध्यक्ष के चुनाव के लिए सदस्यों को 11.00 बजे सभागार में आमंत्रित किया गया था। उपस्थित होने के लिए 12 बजे तक समय दिया गया था, लेकिन 11.40 बजे सभी 45 सदस्य उपस्थित हो गए। जिलाधिकारी ने सभी सदस्यों को पद एवं गोपनीयता के साथ शराबबंदी कानून का अनुपालन करने की शपथ दिलाई। बता दें कि चुनाव को लेकर सुबह सात बजे से परिसर में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई थी। सामान्‍य वाहनों का प्रवेश रोक दिया गया था। सुरक्षा के पुख्‍ता इंतजाम किए गए थे। जिलाधिकारी डा. चंद्रशेखर के सहयोग में छह पदाधिकारी को प्रतिनियुक्त किए गए थे। विधि-व्यवस्था बनाए रखने के लिए दंडाधिकारी और पुलिस पदाधिकारी के साथ पुलिस बल की तैनाती की गई है। इसी तरह सारण के पांच प्रखंडों की कुर्सी का फैसला बुधवार को हो गया। परसा, मकेर, दरियापुर, मशरक व पानापुर प्रखंड के प्रमुख व उपप्रमुख के परिणाम भी आए। सविता देवी चौथी बार परसा प्रखंड की प्रमुख निर्वाचित हुईं। 

Edited By: Vyas Chandra