मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, पटना। पटना में हर ओर चोर और लुटेरों का आतंक है। पुलिस कितनी भी गश्ती कर ले रोज वारदातें हो रही हैं। खाकी का जरा भी खौफ पटना के शातिरों को नहीं रह गया है। ये बेखौफ होकर बदमाश पुलिस को चुनौती दे रहे हैं। कुछ दिनों के अंतराल पर लगातार किसी न किसी वारदात को अंजाम दे रहे हैं। खुद पुलिस अधिकारी मान चुके हैं कि गश्ती कारगर नहीं।

मुकदमें दर्ज करने में सिमट गई कार्रवाई

दूसरी तरफ, थाना पुलिस की कार्रवाई भी सिर्फ मुकदमे दर्ज करने तक सिमट गई है। लुटेरे और हत्यारों की बात तो दूर चोरों के गैंग तक को पुलिस नहीं पकड़ पा रही है। किसी भी केस के बारे में पूछने पर रटा-रटाया जवाब मिलता है, जांच तो कर रहे हैं।

90 से अधिक क्विक मोबाइल जवान

एक तरफ पुलिस के आला अधिकारी रात में औचक निरीक्षण कर रहे हैं तो थानेदारों पर लगातार कार्रवाई हो रही है। हिदायत दी जा रही है। लेकिन, अपराध के बदलते तरीकों के मुताबिक गश्ती में बदलाव नहीं हो रहे। शहर में 90 से अधिक क्विक मोबाइल जवान हैं। सबकी डयूटी तय है। शाम के समय डॉल्फिन मोबाइल टीम और रात में गली में साइकिल से लेकर पैदल गश्ती का दावा। इन सब की तैनाती होने के बावजूद बदमाश जब चाहें, जहां वारदात को अंजाम दे रहे हैं और उनकी घेराबंदी भी पुलिस नहीं कर पा रही है। हद तो यह है कि शहर में 36 से अधिक चेकिंग प्वाइंट बने थे, जो ध्वस्त हो गए। हॉट स्पॉट चिह्नित कर तैनाती की बात कागजी कोरम बनकर रह गई।

दिनदहाड़े लूट और हत्या, जांच में उलझी पुलिस 

कदमकुआं में 11 फरवरी को दिनदहाड़े बाइक सवार बदमाशों ने पिस्टल के बल पर कदमकुआं थाना क्षेत्र के आर्य कुमार रोड पर प्रिंटिंग प्रेस कर्मचारी से 10 लाख रुपये लूट फरार हो गए। घटना के 14 दिन गुजर चुके हैं। पुलिस किसी की गिरफ्तारी नहीं कर सकी और न ही गैंग की पहचान। मामले में पुलिस अभी छानबीन ही कर रही है।

लूटपाट में ले ली व्यापारी की जान

गांधी मैदान में 23 फरवरी की रात आठ बजे गांधी मैदान थाना क्षेत्र के फ्रेजर रोड में बाइक सवार तीन बदमाशों ने लूटपाट के क्रम में दुकानदार पुरुषोत्तम कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी। घटनास्थल के पास ही क्विक मोबाइल जवान गुजरा था। फ्रेजर रोड सबसे व्यस्त इलाका है। वारदात में शामिल बदमाशों को पुलिस नहीं पकड़ सकी।

दिन दहाड़ें सीए के घर में चोरी

पाटलिपुत्र में 26 जनवरी को न्यू पाटलिपुत्र में दिनदहाड़े चार बदमाश सीए के घर में घुस गए। हथियार के बल पर सीए और उनकी पत्नी को बंधक बनाकर करीब 30 लाख रुपये के जेवर और कैश लूट ले गए। पाटलिपुत्र थानेदार की मानें तो बदमाश शातिर हैं। अब तक चार राज्यों में पुलिस दबिश दे चुकी है। लेकिन, गिरफ्तारी नहीं हो सकी।

राजीव नगर में डकैती

राजीव नगर थाना क्षेत्र के जयप्रकाश नगर स्थित बंधन बैंक के डोर स्टेप सेंटर में 18 जनवरी को डकैती हो गई। दिनदहाड़े सात बदमाशों ने कर्मचारियों को बंधक बनाकर 10 मिनट में सात लाख रुपये लूट ले गए। आबादी के बीच किराये के मकान में सेंटर चलता है। बदमाश पकड़े गए, लेकिन घटना ने गश्ती की पोल खोल दी।

जक्कनपुर में लूट छह लाख रुपये

जक्कनपुर में पांच फरवरी की रात आठ बजे जक्कनपुर थाना क्षेत्र के रामनगरी पत्थर की गली में 10 डकैत इलेक्ट्रिक कारोबारी के घर में घुस छह लाख रुपये लूट ले गए। घटना स्थल से थाना चंद कदम दूर था। पुलिस ने इस मामले में दो बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन गिरोह में शामिल अन्य बदमाशों को कोई सुराग नहीं मिला। कैश भी बरामद नहीं हुआ।

चोरों को कैमरे का डर नहीं, पुलिस के पास तस्वीर

21 फरवरी को जक्कनपुर थाना क्षेत्र के जयप्रकाश नगर में पांच दुकानों में सात लाख रुपयों के सामान चोर उड़ा ले गए। पुलिस अभी मामले की जांच कर रही है। 17 फरवरी को शास्त्रीनगर थाना क्षेत्र की सीडीए कॉलोनी में रिटायर्ड फौजी और डॉक्टर के घर से 10 लाख की चोरी हुई। सीसीटीवी कैमरे में चोरों की तस्वीर भी कैद हो गई। यहीं तीनों चोर एक घंटा भर पहले केसरी नगर के शिवनंदन अपार्टमेंट में चोरी करने का प्रयास किए थे। चोर कैमरे के सामने ही बैठे थे। पुलिस को फुटेज भी मिली है और उनका चेहरा भी स्पष्ट है। इसके बावजूद पुलिस गिरोह तक नहीं पहुंच सकी। दो माह में शहर में एक दर्जन से अधिक चोरियां हो चुकी हैं। पुलिस एक भी मामले का पर्दाफाश नहीं कर सकी।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप