पटना, जेएनएन। राजधानी में 22 सितंबर यानी रविवार से फिर विशेष वाहन जांच अभियान की शुरुआत होगी। एक सितंबर से मोटर वाहन (संशोधित) अधिनियम-2019 लागू हो जाने के बाद जुर्माने की धनराशि में दोगुनी से दस गुना तक वृद्धि हो गई है। विशेष अभियान में स्पीडिंग-रेसिंग और खतरनाक ड्राइविंग करने वालों पर भी प्रशासन की नजर है।

रेड सिग्नल होने पर जेब्रा क्रॉसिंग को न पार करें और वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवा लें। गाड़ी लेकर चलिए तो रखिए जरूरी कागजात अगर वाहन लेकर बाहर निकल रहे हैं तो जरूरी कागजात अवश्य साथ रखें। ड्राइवर लाइसेंस, वाहन का निबंधन प्रमाण पत्र, प्रदूषण सर्टिफिकेट और इंश्योरेंस पेपर भी साथ में लिए रहें। इमरजेंसी वाहनों जैसे एंबुलेंस व फायर ब्रिगेड को रास्ता जरूर दे दें, अन्यथा 10 हजार रुपये जुर्माना चुकाना पड़ जाएगा। जिला नियंत्रण कक्ष के प्रभारी शैलेंद्र भारती ने बताया कि प्रशासन की तरफ से विशेष अभियान की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

इतना देना होगा जुर्माना

सामान्य जुर्माना : 100 रुपये से 500 रुपये

हेलमेट नहीं पहनने पर : 100 रुपये से एक हजार और तीन महीने के लिए लाइसेंस सस्पेंड

बिना लाइसेंस के बिना वाहनों का अनधिकृत उपयोग पर एक हजार से पांच हजार रुपये

बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाना : 500 रुपये से पांच हजार रुपये

अयोग्यता के बावजूद ड्राइविंग : 500 रुपये से 10 हजार रुपये

खतरनाक ड्राइविंग : एक हजार से 5000 रुपये तक

नशे में ड्राइविंग : 2000 रुपये से 10 हजार रुपये

स्पीडिंग-रेसिंग : 500 रुपये से पांच हजार रुपये

बिना इंश्योरेंस के ड्राइविंग : 1000 रुपये से 2000 रुपये

ओवर स्पीडिंग (एलएमवी) : 400 रुपये से एक हजार रुपये

ओवर स्पीडिंग (मध्यम श्रेणी) : 400 रुपये से 2000 रुपये तक

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप