पटना, जेएनएन। गया जिले के बाराचट्टी प्रखंड स्थित कोहूदाग पंचायत में एक कलयुगी बेटे ने मामूली बात पर अपने पिता और भाई को पीट-पीट कर लहूलुहान कर दिया, लेकिन 85 वर्षीय घायल पिता कैलाश यादव इसके बावजूद भी बेटे के खिलाफ थाने में शिकायत नहीं करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि थाने में जाऊंगा तो उसे जेल हो जाएगी। 

घटना के बारे में पिता कैलाश यादव ने बताया कि दैनिक जीवन के गुजर-बसर के लिए मेरे पास चार बकरियां  हैं। छोटा बेटा बंटवारे की जिद करता था जिसके बाद छोटा बेटा अलग रहता है। मेरी बकरियां उसके घर की ओर जाकर फूल-पत्ती खाने लगीं। इसपर बेटे रामकेश्वर यादव ने बकरियों को मारना शुरू कर दिया।

बकरियों को मारने से रोका तो  इसी बात पर मुझे मारने लगा। मेरे बचाव में आए बड़े बेटे को भी मारकर घायल कर दिया। उन्होंने बताया कि मैं जिस लाठी के सहारे चलता हूं, उसी लाठी से मारकर उसने मेरा अंगूठा तोड़ दिया है। इसके अलावा शरीर के कई दूसरे हिस्सों पर भी अंदरुनी चोट पहुंची है।

दर्द से कराहते पिता कैलाश ने बताया कि घाव का दर्द तो दवा से ठीक हो जाएगा, लेकिन जो अंदर का दर्द है वो कैसे ठीक होगा?  

इतनी तकलीफ के बावजूद भी उन्होंने कहा मैं शिकायत दर्ज नही कराऊंगा, नहीं तो उसे जेल हो जाएगी। मैं ऐसा नहीं चाहता। मैंने बहुत मेहनत और गरीबी में उसे पाला है। लट्ठा चलाकर जो मजदूरी के रूप में अनाज मिलता था मैं उससे परिवार का भरण-पोषण करता था, लेकिन मेरी तकदीर का दोष है जिस बेटे को नाजों से पाला, आज वही बेटा मार रहा है।

बाराचट्टी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज कर रहे डॉक्टर शिवशंकर झा ने कहा कि स्थानीय गांव के पिता-पुत्र को चोट लगी है। पिता के हाथ में तो वहीं बड़े बेटे के सर में चोट लगी है। दोनों का इलाज किया जा रहा है।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस