पटना [काजल]। बीते सप्‍ताह मौसम के बदलते-बिगड़ते मिजाज के बीच बिहार की सियासत में भी उतार-चढ़ाव जारी रहा। जहां आंधी-बारिश और ओलावृष्टि से किसानों के चेहरे उदास हैं, तो वहीं सियासत का मौसम भी चढ़ता-उतरता रहा। यह उतार-चढ़ाव सोशल मीडिया पर भी देखा गया।
10 अप्रैल का दिन बिहार के लिए खास रहा। 'सत्‍याग्रह से स्‍वच्‍छाग्रह' कार्यक्रम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोतिहारी में थे तो लालू प्रसाद यादव के पटना आवास पर सीबीआइ ने दबिश दी। देर रात आवास की सुरक्षा हटाने पर भी सियासत तेज रही। इन सबके बाद बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की जयंती के बहाने राजनीतिक दलों को दलितों की चिंता खूब सताती रही।
बापू की धरती पर पहुंचे पीएम मोदी
चंपारण सत्याग्रह कार्यक्रम के समापन और बापू की धरती से 'सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह' की शुरूआत करने मोतिहारी पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी ने बिहार की खूब सराहना की। इसके बाद चंपारण, सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह तथा मोतिहारी सोशल मीडिया में छाए रहे। कार्यक्रम के सिलसिले में मोतिहारी जाने के क्रम में पीएम मोदी का पटना एयरपोर्ट पर सीएम नीतीश ने लाल गुलाब देकर स्‍वागत किया। इसकी तस्वीरें खूब शेयर की गईं।
सुशील मोदी-तेजस्‍वी में चला ट्वीट वॉर
कार्यक्रम को लेकर की गई बयानबाजी पर भी लोगों ने जमकर अपनी प्रतिक्रियाएं दीं। पीएम मोदी ने बिहार में एक सप्ताह में 8.50 लाख शौचालयों के निर्माण पर बिहार के लोगों की और सीएम नीतीश की जमकर तारीफ की तो तेजस्वी ने उन्हें गणित समझाते हुए ट्वीट किया कि आंकड़े गलत हैं।
इस ट्वीट का जवाब देते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने लिखा कि शिक्षा पूरी न कर पाने वाले जिन लोगों को पहली बार विधायक बनते ही सीधे तीन-तीन विभागों का कैबिनेट मंत्री बनवा दिया गया, उनका अहंकार इतना बढ़  गया है कि वे अपने पिता की पीढ़ी के सम्मानित नेता और प्रदेश के मुख्यमंत्री पद पर आसीन व्यक्ति के लिए अमर्यादित शब्दों का इस्तेमाल करते हैं। इसपर तेजस्वी ने उन्‍हें कभी भी, कहीं भी बहस कर लने की चुनौती दी।
राबड़ी-तेजस्‍वी से सीबीआइ पूछताछ
पीएम मोदी बिहार में ही थे कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की पत्‍नी व पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर सीबीआइ की टीम पूछताछ करने पहुंच गई। टीम ने घंटों तक रेल होटल टेंडर घोटाला मामले में तेजस्वी-राबड़ी से पूछताछ की। इसे लेकर भी सियासी बाजार गर्म रहा।
गरमाया रहा लालू परिवार की सुरक्षा का मामला
उसी रात राबड़ी आवास से लालू की सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मी हटा लिए गए, जिसके बाद राजनीतिक महकमे में और सोशल मीडिया पर बवाल मचा रहा। कुछ यूजर्स ने लालू परिवार के प्रति सहानुभूति जताई तो कुछ ने विरोध में कॉमेंट्स किए। नाराज राबड़ी देवी ने खुद के सुरक्षाकर्मियों को भी वापस भेज दिया। उनके दोनों पुत्रों और कुछ राजद नेताओं ने भी सुरक्षा हटा दी।
राबड़ी ने नीतीश कुमार को पत्र लिखकर इसकी जानकारी देते हुए कहा- आपकी सरकार की इस कार्यवाही के लिए धन्यवाद। इसके साथ ही राबड़ी ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि मेरे परिवार की हत्या की साजिश रची जा रही है। कर्नाटक से लौटकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राबड़ी के पत्र पर संज्ञान लिया और उन्होंने गृह मंत्रालय से इस बारे में रिपोर्ट मांगी कि राबड़ी आवास से सुरक्षा किस आधार पर हटाई गई।
अंबेदकर के बहाने खूब हुई राजनीति
वहीं, बिहार में सभी राजनीतिक दलों ने बाबा साहेब भीमराव अंबेदकर की जयंती के मौके पर अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित कर दलितों के लिए अपनी चिंता जताई। इसपर पक्ष-विपक्ष के बीच खूब शब्‍दबाण चले। बाबा साहेब की जयंती को लेकर लोगों ने सोशल मीडिया में उनकी तस्वीरें शेयर कींं और  उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी। 

सबसे अंत में...
बिहार की बेटी श्रेयसी सिंह ने कॉमनवेल्थ गेम्स में निशानेबाजी की डबल ट्रैप प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर देश के साथ राज्‍य का भी बिहार का नाम रोशन किया। सीएम नीतीश के साथ ही लोगों ने पोस्ट्स और ट्वीट्स कर श्रेयसी को बधाई दी।

By Amit Alok