पटना [जेएनएन]। राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे व पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव ने हाल ही में पार्टी में कुछ 'चुगलखारों' की चर्चा करते हुए अपनी अनदेखी का आरोप लगाया था। उन्‍हाेेंने पार्टी में असामजिक तत्‍वों के जमावड़ा की भी बात कहकर सनसनी फैला दी थी। पार्टी केे वरिष्ठों के हस्तक्षेप से लालू परिवार में वर्चस्व का विवाद सुलझा तो लिया गया, लेकिन तेज प्रताप के कथित पूर्व सचिव ने पार्टी के ऐसे तत्‍वों का खुलासा करता बयान देकर फिर विवाद खड़ा कर दिया है।

तेजप्रताप के पूर्व सचिव ने लगाए ये आरोप 
खुद को तेज प्रताप यादव का पूर्व सचिव बताने वाले अभिनन्‍दन यादव ने कहा हैै कि पार्टी के तीन 'फ्रॉड' लोग नहीं चाहते कि तेज प्रताप नेता बनें। अभिन्‍न्‍दन ने कहा कि पार्टी के मणि यादव, ओमप्रकाश यादव तथा नागमणि यादव ही तेज प्रताप यादव के खिलाफ साजिश करते हैं। वे पार्टी व लालू परिवार को दीमक की तरह खा रहे हैं।
उन्‍होंने कहा कि तीनों लोग 'महा फ्रॉड' हैं और वे मैडम (राबड़ी देवी) की गलत कान भरते रहते हैं। उनके पास इतनी संपत्ति कहां से आई, इसकी भी जांच होनी चाहिए।
अभिनन्‍दन ने कहा कि वे आठ साल तक तेज प्रताप के पीए रहे। बीच में इन तीनों के कारण ही उन्‍हें हटा दिया गया था। लेकिन, अब वे फिर तेज प्रताप के साथ हैं।
मणि यादव, ओमप्रकाश यादव तथा नागमणि यादव सगे भाई हैं। वे राबड़ी देवी के रिश्‍ते के भाई के बेटे हैं तथा उन्‍हें बुआ बोलते हैं। मणि यादव तेजस्वी के ओमप्रकाश तेज प्रताप के और नागमणि राबड़ी के निजी सचिव हैं।

कौन है अभिनन्‍दन यादव, जानिए
अभिननंदन यादव के बयान का खंडन करते हुए राजद प्रवक्‍ता शक्ति सिंह यादव ने बताया कि वह कभी पार्टी में नहीं रहा। राजद से जुड़े कुछ अन्‍य लोगों के अनुसार अभिनंदन यादव कभी भी तेज प्रताप यादव का निजी सचिव नहीं रहा। तेज प्रताप के  विधायक बनने से पहले उदय यादव उनके निजी सचिव थे। बाद में मंत्री बनने पर ओम प्रकाश भी तेज प्रताप यादव से जुड़ गए।
बताया जा रहा है कि खुद को पूर्व निजी सहचव बताने वाला अभिनंदन, लालू यादव का रिश्‍तेदार भी नहीं है। वह दानापुर का रहने वाला है।

फिर खड़ा हुआ नया विवाद
तेज प्रताप के बयान के बाद के बाद सुलझतेे दिख रहे इस मामले को इस बयान ने फिर विवादित कर दिया हैैै। इस बाबत आरोपों के घेरे में आए तीनों की प्रतिक्रिया अभी नहीं मिल सकी है। हालांकि, राजद प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव का कहना है कि अभिनंदन यादव का राजद से कभी कोई संबंध नहीं रहा। उसकी बातें निराधार हैं।

बढ़ सकती थी परिवार की परेशानी 
राजद ने अभिनन्‍दन के बयान को सिरे से खारिज कर दिया है, लेकिन तेज प्रताप के तेवर के बाद अब इस बयान से फिर नए विवाद की आशंंका है। पार्टी अभी नाजुक और पुनर्निर्माण के दौर से गुजर रही है। लालू प्रसाद गंभीर रूप से बीमार हैं। राबड़ी देवी, मीसा भारती एवं तेजस्वी समेत परिवार के अन्य सदस्य भी कानूनी झंझटों में फंसे हैं। केंद्रीय जांच एजेंसियों का शिकंजा प्रतिदिन कसता जा रहा है। ऐसे में इससे परेशानियों की सूची लंबी हो सकती है। खासकर लोकसभा चुनाव के साल मेंं। 

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस