पटना [राज्य ब्यूरो]। राजद की दावत-ए-इफ्तार में इस बार दो बातें खास रहीं। पहली यह कि लालू प्रसाद के बिना आयोजित हुई और दूसरी राजग के घटक दल जदयू की दावत में न जाकर भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने राजद के न्योते को स्वीकार किया। तबीयत खराब होने की वजह से लालू दावत में शिरकत नहीं कर सके।

लालू परिवार ने शत्रुघ्न की खूब खातिरदारी की। राष्ट्रीय महासचिव एवं लालू के करीबी विधायक भोला यादव उन्हें ससम्मान वीवीआइपी पंडाल में ले गए। तेजस्वी ने बढ़कर अगवानी की। इस दौरान सांसद डॉ. मीसा भारती ने उन्हें राजद के टिकट पर संसदीय चुनाव लडऩे का खुला ऑफर दिया। हालांकि मीडिया के सवालों से रूबरू होते हुए शत्रुघ्न ने झेंपते हुए कहा कि अभी इस पर बात करने का वक्त नहीं है।

इफ्तार पार्टी में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, सांसद मीसा भारती और विधायक तेज प्रताप यादव जैसे नेताओं से घिरे बिहारी बाबू ने भाजपा और केंद्र सरकार की नीतियों को जमकर कोसा। कहा-चार सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ नहीं किया।

मीसा भारती और तेज प्रताप ने बिहारी बाबू का खास ख्याल रखा। पास में बिठाया। खातिरदारी की और मीडिया के कतिपय सवालों पर हस्तक्षेप भी किया। मीसा ने कहा कि शत्रुघ्न भाजपा के शत्रु हो सकते हैं, हमारे नहीं। लालू परिवार से उनका गहरा लगाव है। शत्रुघ्न अगर राजी होंगे तो राजद पटना साहिब संसदीय सीट से उन्हें अपना प्रत्याशी बना सकता है। अगर वह भाजपा से भी प्रत्याशी बनाए जाते हैं तो भी राजद की शुभकामनाएं उनके साथ होंगी।

जदयू की इफ्तार में नहीं जाने की वजह पूछने पर शत्रुघ्न ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि न्योता दिया भी गया था या नहीं। इसी सवाल पर तेजस्वी ने बताया कि उन्हें जदयू की ओर से आज ही न्योता दिया गया है। अब जाना संभव नहीं है।

Posted By: Ravi Ranjan