पटना, जागरण संवाददाता। दीवाली व छठ पर्व के बाद अब बाहर से आए लोग लौट चुके हैं। पर्व के दौरान बिहार आने वालों की भीड़ को देखते हुए विमानन कंपनियों ने विभिन्न शहरों के लिए बड़ी संख्या में अतिरिक्त उड़ानों का संचालन किया था। आंकड़ों के अनुसार पटना एयरपोर्ट से प्रतिदिन 130 विमानों का संचालन किया जा रहा था। अब भीड़ छंटते ही निजी विमानन कंपनियों ने सात जोड़ी विमानों का परिचालन बंद कर दिया है। इधर, ठंड के मौसम में कोहरे की वजह से पटना एयरपोर्ट पर विमानों का परिचालन प्रभावित होने की स्थिति को देखते हुए एयरपोर्ट प्राधिकरण विशेष किस्‍म के सेंसर लगाने जा रहा है। इससे खराब मौसम में विमानों का परिचालन आसान होगा, हालांकि इसके लगते-लगते ठंड का मौजूदा सीजन गुजर जाएगा।

पटना एयरपोर्ट से जिन विमानों को बंद किया गया है उनमें इंडिगो की दिल्ली की रात 11.55 बजे और 1.30 बजे की उड़ान बंद कर दी गई है।  साथ ही रात 11 बजे और रात 2.05 बजे बेंगलुरू के लिए उड़ान भरने वाले विमान के अलावा इंडिगो की ही रात 1.40 बजे हैदराबाद, रात 10.30 बजे  मुंबई और अहमदाबाद की शाम 7.25 बजे की फ्लाइट भी बंद कर दी गई है। अधिकारियों की मानें तो, आने वाले दिनों में जब कोहरा बढऩे लगेगा तो सुबह और रात की कम से कम पांच जोड़ी फ्लाइट बंद हो सकती हैं। वैसे 1 दिसंबर को फिर से नया विंटर शिड्यूल जारी होने की उम्मीद है।

पटना से दिल्ली के लिए पहले की तरह अब सबसे पहला विमान सुबह 7.45 बजे गो एयर का है। जबकि अंतिम फ्लाइट इंडिगो की रात 10.40 बजे की है। सात जोड़ी विमानों के बंद होने से फिलहाल पटना एयरपोर्ट से 58 जोड़ी विमानों का परिचालन हो रहा है। इनमें पटना से दिल्ली के लिए 21, मुंबई के लिए 6, बेंगलुरू के लिए 7, हैदराबाद के लिए 4 और अहमदाबाद के लिए 2 उड़ानें ही रह जाएंगी। वहीं पटना हैदराबाद विमान का परिचालन 16 नवंबर तक ही होना था। जबकि दिल्ली और बेंगलुरु जाने वाली विमानों का परिचालन 15 नवंबर तक ही करने की घोषणा की गई थी।

विमान चालकों को विजिबिलिटी सेंसर से मिलेगी मौसम की सूचना

पटना एयरपोर्ट पर मौसम की जानकारी मुहैया कराने को अत्याधुनिक प्रेजेंट वेदर एंड विजिबिलिटी सेंसर लगाए जाएंगे। इससे विमान और सुरक्षित रूप से टेकआफ व लैंडिंग कर सकेंगे। मौसम विज्ञान केंद्र पटना के निदेशक विवेक सिन्हा ने बताया कि इस उपकरण के लगने से मौसम संबंधी पूर्वानुमान की सटीक जानकारी मिल सकेगी। ठंड के मौसम में कोहरे का प्रभाव अधिक होता है। इससे विमानों को उतरने और उड़ान भरने में परेशानी होती है। विजिबिलिटी सेंसर लगाने में लगभग दो से तीन महीने का वक्त लग सकता है। टेंडर के जरिए कपंनी की ओर से उपकरण की सप्लाई होगी। इसकी कीमत 10-12 लाख रुपये है। उपकरण लग जाने से पायलट को मौसम की जानकारी पहले से हो जाएगी। देश के चेन्नई सहित 11 एयरपोर्ट पर इस उपकरण को लगाने की प्रक्रिया वहां के मौसम विज्ञान केंद्र की ओर से आरंभ हो गई है। पटना में भी यह दो तीन माह में लग जाएगा।

Edited By: Shubh Narayan Pathak