राज्य ब्यूरो, पटना। Flood in Bihar: बिहार में बाढ़ की त्रासदी के बाद अब नदियों का उफान कम होने लगा है। धीरे-धीरे नदियों का जलस्‍तर घटने लगा है। गंगा, गंडक, महानंदा, सभी नदियों के जलस्‍तर में कमी होने लगी है। इससे खतरा अब टलने लगा है। लेकिन लोगों की परेशानी कम नहीं हो रही है। इसे लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार काफी गंभीर हैं। उन्‍होंने एक बार फिर बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लिया।

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार रविवार को बाढ़ प्रभावित बेगूसराय, खगडिय़ा, भागलपुर, कटिहार, पूर्णिया व उसके आसपास के इलाकों का एरियल सर्वे किया। इसके साथ ही उन्होंने पूर्णिया के चूनापुर हवाई अड्डे पर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक भी की। बैठक में जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह निर्देश दिया कि तीव्र गति से राहत एवं बचाव कार्य चलाए जाएं। यह तय हुआ कि मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव व भागलपुर के प्रभारी सचिव चंचल कुमार सोमवार से भागलपुर में कैंप कर राहत एवं बचाव कार्यों की स्वयं मॉनीटरिंग करेंगे। हवाई सर्वेक्षण में मुख्य सचिव दीपक कुमार व मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार भी शामिल थे। 

बता दें कि दो दिन पहले नीतीश कुमार पटना से सटे इलाकों का भी एरियल सर्वे किया था। वे पुनपुन नदी में आई बाढ़ का जायजा लिया था। वहीं लोगों के लिए अच्‍छी बात है कि पुनपुन नदी का भी जलस्‍तर अब तेजी से घटने लगा है। शनिवार को ही पुनपुन में लगभग 20 सेमी की कमी हुई थी। रविवार को भी इसमें कमी दर्ज की गई है। पुनपुन के जलस्‍तर में कमी होने से पटना पर बाढ़ का खतरा टल गया है। 

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप