पटना, जेएनएन। CoronaVirus: भारत में कोरोना की महामारी फैलाने की एक अंतरराष्‍ट्रीय साजिश (International Conspiracy) रची गई है। देश विरोधी तत्‍व संकट की घड़ी में भारत में अस्थिरता फैलाना चाहते हैं। ये कोरोना आतंकी भारत सीमावर्ती नेपाल की कई मस्जिदों में छिपे बैठे हैं। इनमें कई पाकिस्‍तानी भी शामिल हैं। साजिश का पर्दाफाश होने के बाद बिहार में नेपाल सीमा (Nido Nepal Boarder) पर सुरक्षा बल सतर्क हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय इससे अवगत है। कोरोना संक्रमण की आशंका को देखते हुए भारत-नेपाल सीमा बीते 24 मार्च से ही सील कर दी गई है।

एसएसबी कमांडेंट को मिली साजिश की सूचना

बिहार के पूर्वी चंपारण के रामगढ़वा पनकोटा एसएसबी (सशस्‍त्र सीमा बल) 47वीं बटालियन के कमांडेंट ने पश्चिम चंपारण के जिलाधिकारी तथा बेतिया के पुलिस अधीक्षक को पत्र जारी कर बताया कि नेपाल के परसा जिले के जग्रनाथपुर गांव निवासी जालिम मुखिया (Zalim Mukhiya) ने भारत में कोरोना महामारी फैलाने की साजिश रची है। साजिश के अनुसार करीब दो सौ मुस्लिम सीमावर्ती मस्जिदों में शरण लिए हैं। इनमें करीब आधा दर्जन पाकिस्‍तानी भी शामिल हैं। ऐसे लोग लगातार बढ़ रहे हैं। वे भारत में घुसकर कोरोना फैलाना चाहते हैं।

आइएसआइ व तस्‍कर सरगना से जुड़ रहे तार

सवाल यह है कि आखिर कौन है जालिम मुखिया? जालिम मुखिया नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी का सक्रिय सदस्य बताया जाता है। पहले वह माओवादी संगठन से भी जुड़ा रहा था। नेपाल में बीते चुनाव में वह सक्रिय रहा था। उसके तार पाकिस्‍तानी खुफिया संगठन आइएसआइ से भी जुड़ा बताया जाता रहा है। गौरतलब यह भी है कि भारत में कोरोना फैलाने की साजिश में वह जिन लोगों की घुसपैठ कराना चाहता है, उनमें पाकिस्‍तानी नागरिक भी हैं।

राजनीतिक रसूख की आड़ में तस्‍करी का धंधा

जालिम मुखिया अपने राजनीतिक संपर्कों की आड़ में माओवादी व तस्‍करी की गतिविधियों में लिप्‍त रहा है। वह एक अंतरराष्‍ट्रीय तस्‍कर है। वह नेपाल को बेस बनाकर भारत में जाली नोट व नशीले पदार्थों की तस्‍करी में लिप्‍त रहा है। अवैध हथियारों की तस्‍करी के लिए भी वह कुख्‍यात रहा है। लेकिन इस बार उसने कोरोना का संक्रमण फैलाने की साजिश रच सरकार के होश उड़ा दिए हैं। उसका घर नेपाल के परसा जिले के जगन्नाथपुर में है, जो बिहार के पश्चिम चंपारण स्थित सिकटा की सीमा से लगा नेपाली कस्‍बा है।

नेपाल की मस्जिदों में छिपे कोरोना आंतकी

सूत्रों के अनुसार भारतीय सीमा से लगे नेपाल की मस्जिदों में भारत में घुसने को इच्‍छुक लोग रह रहे हैं। इनमें से अधिकतर विदेशों में काम करने गए भारतीय हैं। इन्‍हीं की आड़ में जालिम मुखिया ने आतंक की घिनौनी साजिश रची है। इन मस्जिदों में कोरोना फैलाने की साजिश रच रहे कोरोना आतंकी भी हैं।

हमले की साजिश के खुलासा से मख हड़कम्‍प

भारत विरोधी तत्‍वों द्वारा इस साजिश से हड़कम्‍प मच गया है। भारत व नेपाल के बीच सैकड़ों किलोमीटर लंबी खुली सीमा है। कोरोना संक्रमण के दौर में इसे पहले से ही सील कर दिया गया है। सड़कों पर तो एसएसबी व पुलिस की सतर्क नजर है, पर ग्रामीण इलाकों की पगडंडियों से प्रवेश को रोकना असली चुनौती है।

भारत-नेपाल सीमा पर कड़ी चौकसी का आदेश

एसएसबी कमांडेंट की इस सूचना के बाद भारत-नेपाल सीमा पर विशेष सर्तकता बरतने तथा संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने को कहा है। सीमा बीते 24 मार्च से ही सील है, लेकिन चोरी-छिपे भी कोई नहीं आ सके, इसके सुरक्षा बल सतर्क हैं।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस