पटना, जेएनएन। राजधानी में दो दिनों से हो रही भारी बारिश से जीना मुहाल हो गया है। कभी तेज तो कभी धीमी गति से पानी बरस रहा है। इससे पूरा शहर जलमग्न हो गया है। पटना के निचले इलाकों में तो घरों के अंदर तक पानी चला गया है। पहले तल्ले पर रहने वाले दूसरे स्थानों पर जाने का विकल्प ढूंढ़ रहे हैं। लोगों को घरों से निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

मरीजों को खासी परेशानी

इस बीच शनिवार को राजधानी के स्कूल बंद कर दिए गए हैं। जिलाधिकारी कुमार रवि ने सुबह ही इस आशय संदेश जारी किया है। इसके तहत सभी सरकारी और निजी विद्यालय बंद कर दिए गए हैं। वहीं शनिवार को पाटलिपुत्र विवि में होने वाली बीएड पार्ट-1 की परीक्षा स्थगित कर दी गई है। नए आदेश के तहत परीक्षा 10 अक्टूबर को ली जाएगी। बारिश के कहर ने अस्पतालों को भी नहीं छोड़ा है। पटना के प्रमुख हॉस्पिटल एनएमसीएच के अंदर तक पानी भर गया है। अस्पताल के कई वार्ड जलमग्न हो गए हैं। मरीज खुद से बाल्टी-बाल्टी पानी निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

रिमझिम फुहारों से सुबह की शुरुआत

शुक्रवार की देर रात से हो रही बारिश का सिलसिला शनिवार को भी जारी है। कंकड़बाग, डॉक्टर्स कॉलोनी, राजेंद्र नगर, कुर्जी, पटना जंक्शन, डाकबंगला चौराहा, जेपी गोम्बर, गांधी मैदान, राजेंद्र नगर, पाटलिपुत्र कॉलोनी, राजीवनगर, केसरी नगर, इंद्रपुरी आदि इलाके पानी से लबालब हो गए हैं। गलियों के साथ सड़क पर पानी आ गया है। बारिश से जलजमाव के कारण बेलीरोड की एक लेन बंद कर दी गई है। हड़ताली मोड़ से आगे बढ़ने पर ललित भवन के सामने गाड़ियों को मोड़ दिया जा रहा है। राजभवन होते गाड़ियों को पुन: बेलीरोड लाया जा रहा है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार दुर्गा पूजा तक राजधानी के आकाश में बादल छाए रहने की उम्मीद है।

 

 

इसके पहले शुक्रवार को पटना में रिमझिम फुहारें पड़ती रहीं। जो देर रात तेज बारिश में तब्दील हो गईं। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि राजधानी में शनिवार को भी बारिश जारी रहेगी। पिछले चौबीस घंटे में राजधानी में 18.5 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। राजधानी में पिछले दो दिनों से बरसात हो रही है।

शुक्रवार को दिनभर राजधानी में रिमङिाम फुहारें पड़ती रहीं। सुबह में लोगों की नींद खुली तो बारिश हो रही थी। बारिश से राजधानी के वातावरण में नमी काफी बढ़ गई है। राजधानी में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

गंगा के जलस्तर पर भी असर

इधर बारिश से 12 घंटे के अंदर गंगा के जल स्तर में सिर्फ तीन सेंटीमीटर की कमी आई है। जबकि 24 खंटे में 13 सेंटीमीटर की कमी आई है। रात मे भारी बारिश के बीच जलस्तर में कमी की रफ्तार थम गई है। गंगा के जलस्तर में धीमी गति से गिरावट आ रही है।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप