पटना। लाल बहादुर शास्त्रीनगर उपडाकघर में गबन की जांच में अब तक सामने आए तथ्यों के मुताबिक यह राशि 38 लाख रुपये पर पहुंच गई है। पिछले सप्ताह तक यह राशि 32 लाख रुपये बताई गई थी। अभी कागजातों की जांच जारी है। कई कागजात अभी मिल नहीं पाए हैं। कागजातों को खोजने में जुटा है जांच दल :

शास्त्री नगर उपडाकघर में कागजातों की खोज की जा रही है। जांच मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने बताया कि जो कागजात शास्त्रीनगर उप डाकघर में नहीं मिल पा रहे हैं, उन्हें पटना जीपीओ में भी खोजा जा रहा है। अभी तक करीब 50 खातों से गबन के मामले सामने आए हैं। इन बंद खातों को री-ओपन कर दोबारा निकासी की गई है। पहली बार खाताधारकों की ओर से निकासी की गई, जबकि दूसरी बार घोटाला करने वालों ने राशि की निकासी कर ली। कुल गबन की राशि अब 38 लाख रुपये पर पहुंच गई है, जो पिछले सप्ताह 32 लाख रुपये थी। बढ़ सकती है गबन की राशि :

सूत्रों ने बताया, अभी कई कागजात नहीं मिले हैं। इन कागजातों के मिलने के बाद गबन की राशि में और वृद्धि से इन्कार नहीं किया जा सकता है। खातों की संख्या भी बढ़ सकती है। इसी माह की शुरुआत में इस घोटाले की जानकारी डाक विभाग को हुई थी। इसके बाद इसकी जांच के लिए एक अधिकारी को नियुक्त किया गया था। बाद में चार सदस्यीय टीम को जांच की जिम्मेदारी दी गई थी। साथ ही घोटाले में शामिल डाकपाल वसुधा सिंहा और सहायक डाकपाल सुजीत कुमार को पटना डिविजन के वरीय डाक अधीक्षक अमित कुमार झा ने निलंबित कर दिया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस