पटना, आनलाइन डेस्‍क। Bihar Politics: बिहार में विधानसभा की दो सीटों तारापुर (Tarapur) और कुशेश्‍वर स्‍थान (Kusheshwarsthan) के लिए उप चुनाव से ठीक पहले तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) और उनकी पार्टी राजद (RJD) को बड़ा झटका लगा है। लालू यादव (Lalu Yadav) और शहाबुद्दीन (Mohammad Shahabuddin) के करीबी रहे सलीम परवेज (Saleem Parwej) ने जदयू (JDU) का दामन थाम लिया है। उन्‍होंने जदयू संसदीय बोर्ड के अध्‍यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) की मौजूदगी में अपनी नई राजनीतिक पारी का एलान किया। सलीम ने शहाबुद्दीन की मौत के कुछ दिनों बाद राजद से इस्‍तीफा दे दिया था।

यह भी पढ़ें: Bihar assembly by-election 2021: लालू यादव की पार्टी का यह है गेम प्लान, कुशेश्वरस्थान में राजद नेता ने खोले राज

बिहार में अल्‍पसंख्‍यकों के बड़े नेताओं में शुमार

सिवान के बाहुबली पूर्व सांसद के बीमार होने और उनके निधन के बाद लालू परिवार के किसी सदस्‍य के नहीं आने पर सवाल उठाया था। वह बिहार में अल्‍पसंख्‍यक नेताओं के बीच एक बड़ा चेहरा माने जाते हैं। सलीम ने कहा था कि राजद और लालू के परिवार ने शहाबुद्दीन के परिवार को धोखा दिया। उनके दिल्‍ली के अस्‍पताल में भर्ती रहने के दौरान लालू परिवार से कोई सदस्‍य देखने तक नहीं गया। निधन के बाद भी लालू के किसी सदस्‍य ने उनके परिवार से मिलने की कोशिश नहीं की, जबकि तब लालू यादव के साथ ही राबड़ी देवी, मीसा भारती और तेजस्‍वी यादव भी दिल्‍ली में ही थे।

यह भी पढ़ें : शाहरुख के बेटे आर्यन खान के ड्रग्स केस का तार अब बिहार से जुड़ा, एनसीबी मुंबई की टीम पहुंची

पहले भी रह चुके हैं जदयू का हिस्‍सा

सलीम परवेज पहले भी जदयू का हिस्‍सा रह चुके हैं। वे बिहार विधान परिषद में उप सभापति भी रह चुके हैं। सलीम ने जदयू को छोड़कर राजद का दामन थामा था, लेकिन वहां वे अधिक दिनों तक नहीं टिके। सलीम ने जदयू में वापसी के बाद कहा कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में बिहार तेजी से विकास कर रहा है। इसका फायदा बिहार विधानसभा की दो सीटों के उप चुनाव में जदयू प्रत्‍याशी की जीत के तौर पर होगा। सलीम जदयू के प्रचार अभियान में भी शामिल होंगे।

Edited By: Shubh Narayan Pathak