पटना सिटी : राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 30, अशोक राजपथ, एनएमसीएच मार्ग, शनिचरा, बिस्कोमान समेत दो दर्जन कालोनियों को जोड़ने वाले सैदपुर-रामपुर नाला के उत्तर व दक्षिण की सड़क गड्ढे में तब्दील हो चुकी है। इस पर वाहन तथा पैदल चलना मुश्किल हो गया है। यह नाला छोटी पहाड़ी तक जाता है। नाला को सड़क से अलग करने वाली दीवार कई जगहों पर ढह गई है। इससे खतरा बढ़ गया है। बरसात में नाले का पानी ओवर फ्लो होने के बाद पानी सड़क के गड्ढों में भर जाता है। इसके बाद सड़क और नाले का फर्क मिट जाता है। इस खतरनाक मार्ग से आने-जाने वाले लोगों एवं वाहनों के लिए मुसीबत बरकरार है।

सैदपुर-रामपुर नाला नगर निगम के अजीमाबाद एवं बांकीपुर अंचल अंतर्गत आता है। शनिचरा पुल से पश्चिम की ओर जाने वाले नाला के उत्तर व दक्षिण की सड़क बेहद खतरनाक हो गई है। नाले को भूमिगत कर इसके ऊपर सड़क बनाने को लेकर अभी तक हर स्तर से केवल आश्वासन ही नागरिकों को मिल रहा है। स्थानीय नागरिकों द्वारा इस समस्या को लेकर कई बार आंदोलन किया जा चुका है। नागरिकों द्वारा नाला को भूमिगत कर सड़क निर्माण किए जाने की मांग की जा रही है।

स्थानीय नागरिक प्रदीप मेहता, उमेश मेहता, रितेश कुमार बब्लू ने बताया कि शनिचरा मोड़ से लेकर राजेंद्र नगर स्थित एनसीसी आफिस तक नाला के दोनों किनारे की घेराबंदी करने वाली दीवार कई जगहों पर ध्वस्त हो गयी है। नाला उड़ाही के दौरान पोकलेन व जेसीबी के दबाव से यह दीवार गिरी है। कई जगहों पर नाला खतरनाक हो गया। नाला के उत्तर और दक्षिण की सड़क में एक से दो फीट तक गड्ढे हैं। इन दोनों समस्याओं को जल्द दूर नहीं किया गया तो आने वाले बरसात में तबाही मच सकती है। इस पूरे मामले पर बांकीपुर एवं अजीमाबाद अंचल के पदाधिकारी का कहना है कि यह बड़ी योजना विभाग के स्तर पर विचाराधीन है।

Edited By: Jagran