पटना, जेएनएन। ठंड के मौसम में बिहार के सियासी महकमे में गर्मागर्म बयानबाजी ने तापमान बढ़ा दिया है। एक तरफ जहां पोस्टर वार जारी है तो वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया से भी सवाल-जवाब जारी है। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने जहां नया नारा गढ़कर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसा है तो वहीं उनकी पत्नी औऱ पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने बालिका गृहकांड मामले को लेकर हमला बोला है।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने नारा दिया है-दो हज़ार बीस, हटाओ नीतीश। लालू यादव ने आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर ये नया नारा ईजाद किया है, जिसमें चुनाव में बिहार सरकार के खात्मे की बात कही गई है। 

राबड़ी ने लगाया आरोप, बलात्कारियों को बचाना चाहते हैं सीएम

तो वहीं दूसरी तरफ उनकी पत्नी राबड़ी देवी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बालिका गृहकांड के आरोपियों को बचाने का आरोप लगाते हुए ट्वीट किया है, जिसमें लिखा है "CM बलात्कारियों को बचाना चाहते है क्योंकि मूँछ वाले, तोंद वाले अन्य आरोपी उनके साथ कैबिनेट में बैठे है?" 

राबड़ी ने पूछा है कि "नीतीश जी बतायें, वो ब्रजेश ठाकुर के अख़बार को करोड़ों का विज्ञापन क्यों देते थे? उसके NGO को फ़ंड क्यों करते थे? उसके घर केक खाने क्यों जाते थे? उसे चुनाव क्यों लड़वाते थे?"

नीतीश कुमार बताएं, किस दरिंदे के इशारे पर मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप कांड में 34 बच्चियों का सामूहिक बलात्कार करने वाले राक्षसों को बचाने के लिए कोर्ट के आदेश की अवेहलना करते हुए CBI तबादला कर रही है? CM मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर को बचाने के लिए प्रयासरत है।

मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांड की जांच कर रहे सीबीआइ अधिकारियों का तबादला

बता दें कि बिहार के चर्चित मुजफ्फरपुर शेल्टर होम  कांड में जांच कर रहे सीबीआई अधिकारियों का तबादला कर दिया गया है। ये तबादले सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद किए गए हैं। कोर्ट ने आदेश दिया था कोर्ट ने पहले भी इन अधिकारियों के ट्रांसफर करने पर केंद्र सरकार को फटकार लगाई थी लेकिन फिर भी क्यों यह ट्रांसफर किया गया है, समझ से परे हैं। इसे लेकर राबड़ी ने बिहार की नीतीश सरकार पर आरोपियों को बचाने का आरोप लगाया है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस