पटना [जेएनएन]। लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े पुत्र तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) अलग-अलग रूप धरते हैं जो लोगों के बीच चर्चा का विषय बन जाता है। उनका रूप सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल भी हो जाता है। अभी सावन का महीना चल रहा है। सावन की पहली सोमवारी पर तेज प्रताप भगवान शिव की भक्ति में ऐसे लीन हुए कि भोले शंकर का रूप धर लिया।
बता दें कि पिछली बार भी सावन महीने में जब हर कोई भगवान शंकर की भक्ति में डूबा था तो तेज प्रताप ने भोले नाथ का रूप धरा था। उनका वह रूप काफी दिनों तक चर्चा का विषय बना रहा था।

वैसे भी तेज प्रताप यादव अपने निराले अंदाज के लिए जाने जाते हैं। कभी वे कृष्ण का रूप धर लेते हैं तो कभी भगवान शंकर के रूप में देखे जाते  हैं। कभी सड़क निर्माण कार्य करने लगते हैं तो कभी जलेबी बनाते हैं। कभी गायें चराने लगते हैं तो कभी घुड़सवारी भी करते हैं।

भस्म रमाया और पहनी बाघ की छाल

इस बार 22 जुलाई को सावन की पहली सोमवारी थी और लोग बाबा भगवान शंकर की भक्ति में रमे हुए थे। ऐसे में तेज प्रताप ने भी अपने आवास में स्थित मंदिर में भगावन भोलेनाथ की पूजा-अर्चना की। इस दौरान उन्होंने पूरे शरीर पर सफेद धोती लपेटी हुई थी। साथ ही, पूरे शरीर में भस्म लगाया था।  मृगछाला धारण कर वे बिल्कुल भगवान शंकर का अवतार लग रहे थे। 

पिछले साल गए थे बाबाधाम और धरा था शिव का रूप
तेज प्रताप यादव ने पिछले साल सावन के महीने में देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम गए थे और वहां उन्होंने शिव के दर्शन किए थे। जाने से  पहले उन्होंने पटना के शिवालय में पूजा-अर्चना की थी और उसी समय से उन्होंने भगवान शंकर की तरह का वेश बना रखा था और साथ में डमरू भी बजाया था। उनकी तस्वीर और वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हुए थे।

जब धरा था कन्हैया का रूप, पीएम मोदी ने भी की थी चर्चा
तेज प्रताप एक बार 'कृष्ण' रूप में नजर आए थे, जिसमें गौशाला में जाकर गायों के बीच बांसुरी बजा रहे थे। उनके इस  रूप को देखकर लोगों ने उन्हें लालू का कन्हैया कहना शुरू कर दिया था। यही नहीं, पीएम मोदी ने भी उनके इस रूप की चर्चा की थी। इसके बाद तेज प्रताप जब-जब मथुरा जाते हैं तो उनकी कृष्ण भक्ति की तस्वीरें खूब चर्चा बटोरती हैं।

कभी धरते हैं भगवान का रूप तो कभी करते घुड़सवारी
लालू प्रसाद के बड़े बटे तेज प्रताप यादव हर कला में माहिर हैं। वे घुड़सवारी भी करते हैं तो क्रिकेट खेलते हैं। शंख बजाते हैं तो बांसुरी भी बहुत अच्छी तरह बजा लेते हैं। उनका मन ज्यादातर अध्यात्म में रमता है, लेकिन राजनीति की भी समझ रखते हैं। तेज प्रताप जितनी अपनी राजनीतिक गतिविधियों को लेकर तो चर्चा में रहते ही हैं, अपने विभिन्न रूपों को लेकर भी सुर्खियां बटोरते हैं।  

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kajal Kumari