राज्य ब्यूरो, पटना : बिहार विधानसभा के मानसूत्र सत्र का मंगलवार को दूसरा दिन था। इस दौरान जबरदस्‍त हंगामा हुआ। विपक्ष से सभी सदस्‍यों ने सदन का बहिष्‍कार तक कर दिया। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव सदन से बाहर निकल गए। तेजस्वी यादव ने कहा कि जबतक विपक्ष के विधायकों की पिटाई के मामले पर सदन में चर्चा व दोषियों पर कार्रवाई नहीं होती, वे सदन का बहिष्‍कार करेंगे। वहीं विधानसभा अध्‍यक्ष पहले ही कह चुके हैं कि जो कुछ भी हुआ था, उसपर सरकार कहीं नहीं है। वहीं तेजस्‍वी ने कहा कि लोकतंत्र के मंदिर में विधायकों की पिटाई होती है और चार महीने बाद केवल दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया जाता है। तेजस्वी ने सरकार पर जुबानी हमला किया। 

इस वर्ष विधानसभा में बजट सत्र के दौरान 23 मार्च को जो घटना हुई उस पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मंगलवार को सदन में कहा कि अगर इस पर बहस हो जाती को दाग को धोने का मौका मिलता। सिपाही को खुद कहां यह हिम्मत कि वह विधायक को पीट दे। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) विधायक ने कहा कि किसी के इशारे पर ही यह हुआ होगा। बड़े अधिकारी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने कहा कि लोकतंत्र के मंदिर में विधायकों की पिटाई होती है तो मान-सम्मान कहां रह जाता है। कोई भी पुलिस वाला विधायक को गोली मार देगा और आप दो को निलंबित कर देंगे। उन्होंने कहा कि विपक्ष के विधायकों की पिटाई के मामले पर सदन में चर्चा व दोषियों पर कार्रवाई नहीं होती, वे सदन का बहिष्‍कार करेंगे। बता दें कि इसी साल 23 मार्च विपक्षी विधायकों के साथ विधानसभा में मारपीट की गई थी। इस मामले में हाल ही में दो सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया गया था। इसपर विपक्ष ने अपनी आपत्ति दर्ज कराई थी। 

Edited By: Akshay Pandey