पटना। पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ (पुसु) चुनाव के लिए सभी विभाग और कॉलेज संशोधित मतदाता सूची 17 नवंबर तक डीएसडब्ल्यू कार्यालय को सौंप देंगे। 19 को मतदाता सूची को विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा। डीएसडब्ल्यू प्रो. एनके झा ने बताया कि सभी कॉलेजों और विभागों को पांच नवंबर को ही मतदाता सूची भेज दी गई थी। 16 और 17 नवंबर को 2:00 बजे तक छात्र मतदाता सूची पर आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। प्राचार्य और विभागाध्यक्ष आपत्ति की जांच कर संशोधित मतदाता सूची हर हाल में शनिवार को डीएसडब्ल्यू कार्यालय को उपलब्ध करा देंगे। इस बार संशोधित मतदाता सूची ही वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी। सभी विभागों और कॉलेजों में विषय और वर्ष वार सूची अवलोकन के लिए उपलब्ध है। विद्यार्थी सूची में अपना नाम और अन्य विवरण देख सकते हैं। संबंधित प्राचार्य और विभागाध्यक्ष को त्रुटि की जानकारी देकर सुधार करा सकते हैं। 17 के बाद त्रुटि सुधार के लिए किसी भी स्थिति में आवेदन नहीं स्वीकार नहीं किए जाएंगे। सूत्रों के अनुसार छठ की छुट्टी के बाद 16 को चुनाव की घोषणा विश्वविद्यालय प्रशासन करेगा। नामांकन पर्चा 21 और 22 नवंबर को भरा जाएगा।

1000 से अधिक मतदाता बढ़े

पिछले चुनाव में 19,870 विद्यार्थी मतदाता सूची में शामिल थे। इस बाद इनकी संख्या लगभग 21,000 हो गई है। पटना वीमेंस और मगध महिला कॉलेज में सबसे अधिक मतदाता बढ़े हैं। सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स में शामिल विद्यार्थियों को मतदाता सूची में स्थान नहीं मिलेगा। दूरस्थ शिक्षा के विद्यार्थी भी पुसु चुनाव में शामिल नहीं होंगे।

संभावित प्रत्याशी ऑनलाइन कैंपेन में जुटे

एक दिसंबर को चुनाव को देखते हुए संभावित प्रत्याशियों ने ऑनलाइन कैंपेन शुरू कर दिया है। छात्र जदयू 'पीयू टू सीयू' कैंपेन से समर्थकों में उत्साह भर रहा है। एबीवीपी, एआइएसएफ, आइसा, जेएसीपी से संभावित प्रत्याशी फेसबुक और वाट्सएप पर अपनी दावेदारी को मजबूत कर रहे हैं। वहीं, पुसु के निवर्तमान अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज द्वारा समर्थित कई निर्दलीय प्रत्याशी भी कैंपेन चला रहे हैं। संभावित प्रत्याशी छठ की शुभकामना के माध्यम से भी अपने समर्थन का टोह ले रहे हैं।

आधी आबादी दिखाएगी दमखम

छात्र संगठनों के पदाधिकारियों के अनुसार सेंट्रल पैनल के प्रत्याशियों का नाम लगभग तय है। तिथि घोषित होने के बाद अंतिम रूप दिया जाएगा। मतदाता सूची में 60 फीसद से अधिक छात्राएं होने के कारण सभी संगठन महिला प्रत्याशियों को लेकर संजीदा हैं। वीमेंस कॉलेज में लगभग 4500 और मगध महिला कॉलेज में 3500 मतदाता हैं।

Posted By: Jagran