(बेगूसराय) : भगवान विष्णु संपूर्ण विश्व के पालन हार हैं। जबकि धन और वैभव की अधिष्ठात्री माता हैं। इन दोनों की उपासना एवं पूजन किए जाने से भक्तों का कल्याण हो जाता है। यज्ञ से सुख, समृद्धि एवं यश में वृद्धि होती है। उक्त बातें कथा वाचक पंडित लालमोहन शास्त्री जी महाराज ने प्रवचन के दौरान कहीं।

उन्होंने कहा, जिस गांव में यज्ञ होता है, वहां के सारे पाप धुल जाते हैं। वहां लोगों के व्यक्तित्व में निखार आता है। समाज में समरसता बढ़ जाती है। धन्य-धान्य से लोग परिपूर्ण हो जाते हैं। क्षेत्र के सभी लोगों को यज्ञ में अपनी ओर से हवन सामग्री लाकर देनी चाहिए एवं परिक्रमा करनी चाहिए। इससे बहुत बड़ा पुण्य मिलता है। उन्होंने कहा, कथा के श्रवण से शारीरिक एवं मानसिक क्लेश मिट जाते हैं। वैदिक मंत्रोच्चार से हो रहे हवन से पूरा क्षेत्र भक्ति में बन गया है। काफी संख्या में लोग यज्ञ में भाग लेने के लिए निकल पड़ रहे हैं।

Edited By: Jagran