जागरण टीम, पटना। Ramvilas Paswan Death Anniversary बिहार की सियासी गलियां रविवार को रामविलास पासवान की पुण्य तिथि पर पटना में आयोजित कार्यक्रम से रोशन हैं। मौका है दस्तूर भी पर कुछ कमी-कमी सी लग रही है। सबकी नजर बिहार सीएम नीतीश कुमार के आगमन पर है। सुबह पीएम नरेंद्र मोदी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के प्रति अपनी संवेदना जाहिर करते हुए डेढ़ पेज का पत्र भेजा। जवाब में चिराग ने भी तहे दिल से प्रधानमंत्री का शुक्रिया किया। इस बीच कुछ ही घंटों बाद सीएम नीतीश कुमार ने भी शोक जाहिर किया। नीतीश ने मात्र डेढ़ लाइन में अपने पुराने साथी रामविलास को श्रद्धांजलि दे दी। हाल के दिनों में बिहार सीएम ने किसी भी शोक-संवेदना को इतने कम शब्दों ने नहीं व्यक्त किया था।

राजद और कांग्रेस ने किया हमला

राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि पीएम मोदी के पत्र भेजने के बाद मजबूर होकर नीतीश ने डेढ़ लाइन लिखी। राजनीति अलग है और निजी संबंध अलग। भारतीय राजनीतिक के इतिहास में ऐसा सम्मान तो किसी ने नहीं दिया होगा। चिराग ने काफी कोशिश की पर नीतीश ने समय नहीं दिया। क्या नीतीश इतने व्यस्त थे कि एक सांसद से मिलने का उनके पास समय नहीं था? वहीं कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता और मीडिया विभाग के चेयरमैन राजेश राठौर ने कहा कि कई सालों तक साथ रहने के बाद इतने कम शब्दों में श्रद्धांजलि देकर नीतीश ने खुद को छोटा दिखाया है। बेटे से नाराजगी हो तो पिता से क्यों दिखा रहे हैं। अरुण जेटली के निधन पर पटना में पार्क बनवाने की बात नीतीश ने की थी पर रामविलास के लिए दिल छोटा क्यों हुआ? हम चाहते हैं कि रामविलास की प्रतिमा भी नीतीश राजधानी में लगवाएं। 

पटना में रविवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे रामविलास पासवान की बरसी मनाई जा रही है। रामविलास के बेटे व जमुई के सांसद चिराग ने आयोजन में शामिल होने के लिए कई बड़े चेहरों को निमंत्रण दिया है। पार्टी में टूट के बाद चिराग के चाचा पशुपति पारस भी पहुंचे हैं। चिराग आमंत्रण तो बिहार सीएम नीतीश कुमार को भी देने चाह रहे थे पर शनिवार को रात तक नीतीश ने उन्हें मिलने का समय नहीं दिया। अंत में उन्होंने मीडिया के माध्यम से नीतीश से पिता की पुण्य तिथि में शामिल होने की अपील की।

चिराग को नीतीश का इंतजार

रविवार को मीडिया से बातचीत में चिराग ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि नीतीश कुमार मेरे पिता के बेदाग राजनीतिक सफर को याद करते हुए कार्यक्रम में शामिल होंगे। नीतीश के द्वारा जारी श्रद्धांजलि पत्र की याद चिराग ने भी दिलाई और मीडिया से बाचतीच में कहा कि उन्होंने तो मात्र डेढ़ लाइन लिखी। सीएम की ओर से जारी पत्र में लिखा गया- मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रामविलास पासवान को प्रथम बरसी पर श्रद्धांजलि दी। नीतीश के इतने कम शब्दों ने श्रद्धांजलि देने अब चर्चा का विषय बन गया है। 

चिराग लगातार करते रहे नीतीश का विरोध

पिछले साल संपन्न हुए बिहार विधानसभा चुनाव के पहले से नीतीश और रामविलास पासवान के संबंधों में खटास आ गई थी। चिराग ने आरोप लगाया था कि रामविलास के अस्पताल में रहने के दौरान नीतीश मिलने तक नहीं आए। विधानसभा चुनाव में चिराग अपनी हर रैली में जदयू का विरोध करते हुए जनता से कह रहे थे कि नीतीश से पांच साल के काम का हिसाब मांगे। हाल के दिनों में भी चिराग लगातार नीतीश का विरोध कर रहे थे। ऐसे में पिता की बरसी पर चिराग ने कोशिश तो खूब की पर नीतीश ने मिलने तक का समय नहीं दिया। 

Edited By: Akshay Pandey