राज्य ब्यूरो, पटना : राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को जारी बयान में कहा है कि रेलवे की ग्रुप-डी की दो की बजाए एक परीक्षा होगी और एनटीपीसी की परीक्षा के 3.5 लाख अतिरिक्त परिणाम एक छात्र-यूनिक रिजल्ट के आधार पर घोषित किए जाएंगे। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने यह भरोसा गुरुवार को सुशील मोदी को फोन पर दिया। उन्होंने कहा है कि सरकार प्रतियोगी विद्यार्थियों के मांग से सहमत है और उनकी मांग के अनुरूप ही निर्णय जल्द किया जाएगा। सुशील मोदी ने लाखों अभ्यर्थियों की परेशानी और उनकी मांगों से रेल मंत्री वैष्णव को विस्तार से अवगत कराया।

'वन कैंडीडेट-वन रिजल्ट' के सिद्धांत पर लिया जाए निर्णय

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने रेल मंत्री से आग्रह किया कि एनटीपीसी के मामले में 'वन कैंडीडेट-वन रिजल्ट' के सिद्धांत पर निर्णय किया जाना चाहिए। सुशील मोदी ने कहा है कि रेलवे बोर्ड ने यदि फैसला अचानक लेने से परहेज किया होता और समय रहते प्रतियोगी विद्यार्थियों के भ्रम दूर किए होते, तो बिहार में ऐसी अप्रिय स्थिति नहीं पैदा होती।

बिहार के पुलिस प्रशासन से भी की अपील

राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने बिहार के पुलिस प्रशासन से अपील की कि प्रतियोगी पर कोई दमनात्मक कार्रवाई न की जाए। विद्यार्थी कोई अपराधी नहीं हैं। उन्होंने प्रतियोगियों से संयम बरतने की अपील की ताकि रेलवे बोर्ड मामले के सभी पहलुओं की जांच पूरी कर परीक्षार्थियों के हित में फैसला कर सके। विदित हो कि रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणी (एनटीपीसी) परीक्षा के रिजल्ट को लेकर यूपी के साथ बिहार में छात्र विरोध कर रहे हैं। तीन दिनों से चल रहा प्रदर्शन गुरुवार को शांत है। इस मसले को लेकर आइसा-इनौस के साथ कई राजनीतिक दलों ने शुक्रवार को बिहार बंद का भी आह्वान किया है। 

Koo App

रेल मंत्री छात्रों की माँग के पक्ष में: सुशील मोदी को रेल मंत्री का आश्वासन

View attached media content

- Sushil Kumar Modi (@sushilmodi) 27 Jan 2022

Edited By: Akshay Pandey