पटना, जेएनएन। कोरोना संकट के बीच बिहार के राजनीतिक गलियारे में सीएम नीतीश कुमार पर राजद का हमला तेज है। बीजेपी विधायक की बेटी के लॉकडाउन में ही कोटा से बिहार लाए जाने को लेकर कभी नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव तो कभी पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी की ओर से निशाना साधा जा रहा है। गुरुवार को राबड़ी देवी ने एक बार फिर नीतीश कुमार को घेरा है। राबड़ी देवी ने अपने भोजपुरिया अंदाज में सवाल दागा है। 

राबड़ी देवी ने ट्वीट कर कहा है- 'का नीतीश जी! इ कहां के इंसाफ़ बा। छलनी के दोष सूप के दियाई? इहां गजबे राज चलऽता। MLA गईलन आपन लईका के लियाए कोटा। पास देहलन कलक्टर के आदेश पर SDO। आ जब पोल खुलल तऽ गाज़ गिरल ड्राइवर पर। इ खेला सभे बुझऽता। बा करेज़ा तऽ MLA और कलक्टर के साऽजऽअ। सब चलती कमज़ोर ए लोगऽन पर चली?'  

दरअसल, लॉकडाउन में हिसुआ के भाजपा विधायक अनिल सिंह ने कोटा से अपनी बेटी को बिहार लाने के लिए पास बनवाया था। यह पास नवादा एसडीओ ने दिया था। सरकार ने एसडीओ को सस्‍पेंड कर दिया। इसके बाद विधायक के ड्राइवर को सस्‍पेंड कर दिया गया। लेकिन विधायक के मामले में पूरा राजनीतिक गलियारा चुप है। इसी को लेकर गुरुवार को राबड़ी देवी ने ट्वीट कर सरकार को घेरा। 

गौरतलब है कि कुछ इसी तरह का मामला मुजफ्फरपुर में भी हुआ था। इसे लेकर भी राबड़ी ने बुधवार को सरकार को घेरा था। तब उन्‍हाेंने कहा था कि बिहार सरकार के निर्णयों में असमानता है। जब नवादा के SDM को निलंबित किया गया है तो मुजफ्फरपुर के DM पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई? निलंबित तो नवादा DM को करना चाहिए, जिन्होंने आदेश दिया। आख़िर वरीय अधिकारियों ने गलती की है, तो बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी के साथ भेदभाव क्यों?' उन्‍होंने यह भी कहा कि नियमों का उल्लंघन करने वाले भाजपा MLA पर कोई कारवाई नहीं, बल्कि उसके गरीब ड्राइवर को सजा।

 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस