दिलीप ओझा, पटना। सब्जियों के भाव में तेजी से परेशान लोगों की मुश्किलें और बढ़ गई हैं। अब दालों की कीमतें भी बढ़ गई हैं। दालों की कीमत में दो से पांच रुपये प्रति किलो तक वृद्धि हो गई है। जाहिर है इससे घरेलू बजट और चरमराएगा।  कारोबारियों का कहना है कि कमजोर पैदावार का कीमतों पर असर पड़ा है। सब्जियों में तेजी से भी दालों पर प्रतिकूल असर पड़ा है। जब सब्जियों में तेजी रहती है तो दालों की खपत बढ़ती है और कीमतें भी तल्ख हो जाती हैं। 

भाव में धीरे-धीरे हो रही वृद्धि 

अनाज की थोक मंडी मंसूरगंज के व्यापारी गोल्डन कुमार कहना है कि कनाडा, आस्ट्रेलिया में भी मौसम अनुकूल नहीं रहने से दालों की पैदावार में 40 फीसद तक की कमी का अनुमान है। इस वजह से दालों के भाव में धीरे-धीरे वृद्धि हो रही है। इस माह दो से पांच रुपये प्रति किलो तक दालों की कीमत बढ़ गई है। देश में दालों की नई पैदावार फरवरी-मार्च में ही आ पाती है। इसलिए अभी दालों में राहत की उम्मीद कम है।

मंडी के व्यापारियों का कहना है कि चना में थोड़ी राहत की उम्मीद है क्योंकि इसकी पैदावार 110 लाख टन से बढ़ कर इस सीजन में 116 लाख टन हुई है। पटना की मंडियों में दलहन की आवक मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु समेत अन्य मंडियों से होती है। अलावा बिहार की पैदावार भी मंडी में आती है। 

दालें, वर्तमान थोक भाव, एक अगस्त

चना : 58 से 60, 56 से 58 

चना दाल: 64 से 66, 62 से 65 

मूंग दाल : 84 से 90, 84 से 88 

मसूर दाल : 78 से 81, 75 से 78

अरहर दाल : 85 से 98, 80 से 94

उड़द दाल :88 से 95, 90 से 98

दालों का खुदरा भाव 

चना- 60 से 70

चना दाल-70 से 80

मूंग दाल-100 से 110 

मसूर दाल-92 से 95 

अरहर दाल-100 से 120 

उड़द दाल-120 से 125 

(कीमत रुपये प्रति किलो)

Edited By: Akshay Pandey