पटना [जेएनएन]। बिहार में सियासी बयान फिर मर्यादा खोते नजर आने लगे हैं। राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) नेता तेजस्‍वी यादव ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं एवं जनता दल यूनाइटेड (जदयू) सुप्रीमो व मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर आपत्तिजनक टिप्पणी की तो जवाब में भला भाजपा व जदयू चुप कैसे बैठते? जदयू ने पलटवार किया कि तेजस्‍वी अपने पिता से पूछें कि मक्‍कारी क्‍या होती है। भाजपा ने भी कहा है कि तेजस्‍वी फ्रस्‍ट्रेशन में ऐसी बातें कर रहे हैं।
तेजस्‍वी ने किए ये ट्वीट
अपने ट्वीट में तेजस्‍वी ने लिखा है कि क्या भाजपा में ऐसा कोई माई का लाल है जो यह गारंटी दे सके कि 2019 में भाजपाई वोट लेकर चुनाव बाद नीतीश जी पलटी नहीं मारेंगे? अगर किसी भाजपाई ने अपनी मां का दूध पिया है तो आम अवाम को गारंटी दे कि चुनाव बाद नीतीश कुमार जनता के वोट के साथ धोखाधड़ी नहीं करेंगे?

दूसरे ट्वीट में तेजस्‍वी ने लिखा कि 2019 में नीतीश-मोदी किस मुंह से जनता का सामना करेंगे? 2014 में की गयी घोषणाओं और वादों में से एक भी वादा पूरा नहीं किया है। उन्‍होंने युवाओं, किसानों, गरीबों और जवानों को ठगने का काम किया है। तेजस्‍वी ने लिखा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तो पूरी राजनीति ही विश्वासघात और छल-कपट युक्त है।

जदयू का पलटवार: मक्कारी क्या होती, पिता से पूछिये
तेजस्वी यादव के ट्वीट पर पलटवार करते हुए जदयू के अजय आलोक ने ट्वीट किया कि जितनी तेजस्‍वी की उम्र नहीं है उससे 15 साल पहले से नीतीश कुमार और नरेंद्र मोदी राजनीति कर रहे हैं। मक्कारी क्या होती हैं, तेजस्‍वी अपने पिता से पूछें, जो इमरजेंसी में लाठीचार्ज होने पर भाग जाते थे और रात में ढूंढने पर कहीं मीट बनाते मिलते थे। उन्होंने लिखा है कि तेजस्वी अपना मानसिक संतुलन खो बैठे हैं। उन्‍हें चुनाव में हार और जेल जाने डर सता रहा है, इसलिए उटपटांग भाषा बोल रहे हैं। भगवान उनका भला करे।

भाजपा ने चुनाव आयोग से की शिकायत, कार्रवाई की मांग
तेजस्‍वी के ट्वीट पर भाजपा प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा है कि तेजस्वी अभद्रता कर रहे हैं। वे महागठबंधन में सीटों का पेच फंसने से फ्रस्ट्रेशन में हैं। भाजपा ने चुनाव आयोग से तेजस्‍वी पर कार्रवाई की अपील की है।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप