पटना [जेएनएन]। देश के महान गणितज्ञ व आइंस्‍टाइन के सिद्धांत को चुनौती देने वाले वशिष्ठ नारायण सिंह का गुरुवार की सुबह पटना के पटना मेडिकल कॉलेज व अस्‍पताल में निधन हो गया। वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उनके निधन पर शोक-संवेदनाओं का तांता लगा हुआ है। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक प्रकट किया। वहीं कवि कुमार विश्‍वास ने उनके निधन के बाद पटना मेडिकल कॉलेज व अस्‍पताल में हुई घटना को ले सिस्‍टम पर कड़े सवाल खड़े किए हैं।  

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी श्रद्धांजलि

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर शोक प्रकट किया है। उन्‍होंने अपनी संवेदनाएं जतायी है। उन्‍होंने ट्वीट कर कहा है- 'डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। वे एक प्रख्यात गणितज्ञ थे। उनके परिवार व सहयोगियों के प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं।'

पीएम मोदी बोले- देश ने एक विलक्षण प्रतिभा को खो दिया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा कि गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह जी के निधन के समाचार से अत्यंत दुख हुआ। उनके जाने से देश ने ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में अपनी एक विलक्षण प्रतिभा को खो दिया है। विनम्र श्रद्धांजलि!

सीएम नीतीश बोले- बिहार का नाम किया रोशन

वहीं अपने शोक संदेश में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उन्‍होंने बिहार का नाम रोशन किया। उनके निधन पर बिहार में सियायत भी गरमा गई है। उन्‍होंने कहा कि वशिष्ठ नारायण सिंह बिहार के प्रति निष्ठावान व्यक्ति थे। इतना ही नहीं, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार वशिष्‍ठ बाबू के पटना स्थित आवास पर भी मिलने गए। उन्‍हें श्रद्धासुमन अर्पित किए। 

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री व बिहार के बेगूसराय से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद गिरिराज सिंह ने वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर शोक व्‍यक्‍त किया है। उन्‍होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि हमने एक मणि खो दिया है। प्रभु उनकी आत्मा को शांति दें। उक अन्‍य ट्वीट में उन्‍होंने कहा कि इस महान विभूति का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार होगा।

केंद्रीय मंत्री व बिहार बीजेपी के पूर्व अध्‍यक्ष नित्‍यानंद राय ने कहा कि वशिष्ठ नारायण सिंह का निधन अत्यंत दुःखद है। यह बिहार के लिए अपूरणीय क्षति है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति और परिजनों को इस मुश्किल घड़ी में धैर्य प्रदान करें।

जन अधिकार पार्टी सुप्रीमो व पूर्व सांसद पप्‍पू यादव ने ट्वीट कर कहा कि जिन्हें 'नासा' ने सम्मान दिया, बर्कले यूनिवर्सिटी ने जीनियसों का जीनियस कहा, उन्हें बिहार सरकार मृत्यु के बाद एम्बुलेंस तक नहीं दे सकी। महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण बाबू के निधन के बाद उनके शव को अस्‍पताल से निकाल बाहर कर दिया। यह बिहार ही नहीं,विश्व के गौरव का यह अपमान शर्मनाक है।

देश के जाने-माने कवि कुमार विश्‍वास ने अपने ट्वीट में पूरी घटना को ले सिस्‍टम को कटघरे में खड़ा किया। उन्‍होंने सवाल किया कि इतनी विराट प्रतिभा की ऐसी उपेक्षा? विश्व जिसकी मेधा का लोहा माना उसके प्रति उसी का बिहार इतना पत्थर हो गया? आप सबसे सवाल बनता हैं! भारत मां क्यूं सौंपे ऐसे मेधावी बेटे इस देश को, जब हम उन्हें सम्भाल ही न सकें?

गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा (हम) सुप्रीमो व पूर्व मुख्‍यमंत्री जीतन राम मांझी, विधान पार्षद संतोष मांझी तथा 'हम' के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने भी शोक जताया है। जीतन राम मांझी ने उनके निधन को समाज की अपूरणीय क्षति करार दिया है।

 

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस