मटिहानी (बेगूसराय), संवाद सूत्र। बिहार के बेगूसराय जिले में मंगलवार की रात एक अपराधी को पकड़ने गई पुलिस टीम पर उसके समर्थकों ने हमला कर दिया। मामला मटिहानी थाना के खोरमपुर चकौर गांव का है। इसी गांव के अशोक यादव को पकड़ने गई पुलिस की टीम पर उसके समर्थकों ने हमला किया। बदमाशों ने कई पुलिस वालों को घायल करते हुए अशोक यादव को छुड़ा लिया। गिरफ्तार वारंटी अशोक यादव अंधेरे का फायदा उठाकर पुलिस गिरफ्त से भागने में सफल रहा। पुलिस पर हमले में थानाध्यक्ष सहित बीएमपी के कई जवानों को चोटें आई हैं। इस दौरान अशोक यादव का भाई सत्यनारायण यादव उर्फ बोकना पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस ने गिरफ्तार करने के बाद जब उसकी तलाशी ली तो उसके पास से एक देसी कट्टा और दो दिन जिंदा कारतूस बरामद किया गया है।

न्‍यायालय के आदेश पर छापेमारी करने गई थी पुलिस

मटिहानी थानाध्यक्ष परशुराम सिंह ने बताया कि न्यायालय के आदेशानुसार अशोक यादव को मंगलवार की रात्रि में वे स्वयं पुलिस बल के साथ उसके घर पर छापेमारी की थी। छापेमारी के दौरान उसे गिरफ्तार कर लिया गया। उसी वक्त उसके स्वजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। इसके बाद अगल-बगल के उसके समर्थक भी घटनास्थल पर पहुंच गए और लाठी-डंडे से पुलिस पर हमला कर दिया। इसी बीच अशोक यादव अंधेरा का लाभ उठाते हुए वहां से फरार हो गया। इस घटना में थानाध्यक्ष परशुराम सिंह के हाथ पर दो डंडा लगा, जबकि बीएमपी के जवान संतोष कुमार एवं मुकेश कुमार आंशिक रूप से घायल हो गए, जिनका इलाज रेफरल अस्पताल मटिहानी में किया गया।

पकड़ा गया सत्‍य नारायण यादव भी कई मामलों में नामजद

थानाध्यक्ष ने बताया कि अशोक यादव आपराधिक प्रवृत्ति का व्यक्ति है। उसके ऊपर हत्या, रंगदारी, आर्म्स एक्ट सहित आधा दर्जन से अधिक मामले मटिहानी थाना में दर्ज है। उन्होंने बताया कि बलिया थाना में भी उस पर कई मुकदमा दर्ज है। थानाध्यक्ष ने बताया कि गिरफ्तार सत्यनारायण यादव भी हत्याकांड, रंगदारी एवं आर्म्स एक्ट सहित अन्य मामले का नामजद आरोपित है। इस घटना में राजाराम पासवान, अशोक यादव, ऋषि पासवान सहित 10 महिला एवं पुरुष को नामजद अभियुक्त बनाया गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप