पटना [राज्य ब्यूरो]। राज्य पुलिस मुख्यालय ने आरा के हरखेन धर्मशाला में गुरुवार की सुबह हुए विस्फोट मामले की जांच की मॉनिटरिंग शुरू कर दी है। राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) एसके सिंघल ने बताया कि इस मामले में गिरफ्तार दोनों युवकों से पूछताछ की जा रही है। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि इस विस्फोट के पीछे कोई आतंकी साजिश नहीं है। उधर, बिहार एटीएस की टीम ने भी आरा पहुंचकर घटनास्थल की जांच की है।

एडीजी सिंघल ने बताया कि अबतक की जांच से स्पष्ट हुआ है कि कोलकाता से आए दोनों अपराधी आरा में अपने कुछ अन्य सहयोगियों के साथ किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। कमरे से एक पिस्टल व एक आधारकार्ड भी बरामद हुआ।

उन्होंने कहा कि धर्मशाला के जिस कमरे में विस्फोट हुआ था, वहां से वृहस्पति पासवान उर्फ विक्की पासवान नामक एक युवक को घायलावस्था में गिरफ्तार कर बेहतर इलाज के लिए पटना के पीएमपीएच में भर्ती कराया गया है। एक अन्य युवक को आरा के ही मछुआटोली मोहल्ले से गिरफ्तार किया गया है। विक्की पासवान कोलकाता के तेलीपाड़ा का रहने वाला है, जबकि मछुआटोली से गिरफ्तार जितेंद्र कुमार सिंह प. बंगाल के 24 परगना जिला के शास्त्रीनगर, अथपुर का निवासी है।

उन्‍होंने बताया कि विस्फोट देसी बम बांधने के क्रम में हुआ था। दोनों युवकों ने पुलिस की आरंभिक पूछताछ में भूमि विवाद के मामले में किसी अपराध को अंजाम देने की बात कबूली है। लेकिन संभव है कि वे आरा में किसी बैंक डकैती या अन्य किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने पहुंचे थे। फिलहाल आरा पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

Posted By: Amit Alok