पटना [जेएनएन]। पुलिस की नजर उस जोड़े पर पड़ी जिनकी मंदिर में शादी हो रही थी, किसी ने सूचना दी थी कि मंदिर में नाबालिग बच्चों की शादी हो रही थी। पुलिस का शक यकीन में बदल गया जब दो नाबालिग जोड़ों को पुलिस ने देखा जिसमें से एक जोड़े की तो शादी हो चुकी थी, एक की होने वाली थी।

पुलिस ने दूसरे जोड़े की शादी रूकवा दी। घटना नवादा जिले के हिसुआ रोड स्थित शोभ मंदिर की है, जहां किसी ने जिला पदाधिकारी को सूचना दी थी कि यहां नाबालिग बच्चों की शादी हो रही है।सूचना के बाद त्वरित कार्रवाई करते जिला प्रशासन की टीम एसडीओ के नेतृत्व में जांच के लिए शोभ मंदिर पहुंची।

डीएम के निर्देश पर एसडीओ राजेश कुमार, महिला कोषांग की प्रभारी राजकुमारी, महिला थानाध्यक्ष सुषमा कुमारी सत्यता की जांच के लिए मंदिर पहुंच गए। 

शोभ मंदिर में कई जोड़ों की शादियां हो रही थी। लेकिन वहां दो जोड़े नाबालिग प्रतीत हुए। उसमें से एक नाबालिग जोड़े की शादी हो चुकी थी। वह नारदीगंज प्रखंड के कहुआरा गांव के बावू लाल शर्मा का पुत्र मुकेश कुमार एवं गोविंदपुर के दिलीप शर्मा की पुत्री खुश्बू कुमारी थी।

 

महिला कोषांग की प्रभारी राजकुमारी ने बताया कि उम्र प्रमाण पत्र मांगा गया, जिन्होंने बालिग होने का प्रमाण पत्र दिया जिस आधार पर उसे छोड़ दिया गया।

 

वहीं, नरहट प्रखंड के पुंथर निवासी रामवृक्ष चौधरी के पुत्र अनिल कुमार की शादी वारिसलीगंज प्रखंड के बहेरा निवासी विदेशी चौधरी के पुत्र के साथ होने वाली थी। अभी ये जोड़ी शादी के लिए सात फेरे लेने ही वाले थे कि एसडीओ पहुंच गए और शादी रुकवा दी।

 

जिला प्रशासन की टीम ने उक्त जोड़ी को उम्र सत्यापन के लिए महिला थाना को सुपुर्द कर दिया। महिला थानाध्यक्ष ने नाबालिग वर एवं वधू को उम्र जांच के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है। इस बावत सदर एसडीओ राजेश कुमार ने बताया कि देखने से दोनों जोड़ी नाबालिग प्रतीत हो रही थी। इसलिए उसे उम्र सत्यापन के लिए सदर अस्पताल भेजा गया है। मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस