पटना, जेएनएन। राज्य के सबसे बड़े अस्पताल पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (पीएमसीएच) में जूनियर डॉक्टर तीसरे दिन भी हड़ताल की। इस दौरान डॉक्टरों द्वरा सभी तरह के काम बंद कर दिए। रविवार को पीएमसीएच में कार्य बहिष्कार के कारण राज्य के कोने-कोने से आए मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

हड़ताल के कारण अस्पताल में 40 से ज्यादा अॉपरेशन निरस्त कर दिए गए। इमरजेंसी और ओपीडी सेवा में प्रभावित हो गई। जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से मरीज पलायन करने को मजबूर हो गए। एेसे में अपनी जेब ढीली करके लोग प्राइवेट अस्पताल में इलाज कराने को मजबूर रहे।

हड़ताल पर गए जूनियर डॉक्टरों का आरोप है कि एचओडी ने पीजी में उन्हें जानबूझकर फेल कर दिया है। जो मरीजों के शोषण की बात करता है उसे फेल कर दिया जा रहा है। इसी को लेकर छात्रों ने ऑर्थोपेडिक्स विभाग में विरोध जताया। जबकि मामले का विभाग खंडन कर रहा है।

शिक्षकों को कहना है कि जिन छात्रों ने अच्छी तरह से पढ़ाई की, वे सफल हुए हैं। जिन्होंने लापरवाही बरती, वह फेल हुए हैं। बताते चलें कि मंगलवार को भी आक्रोशित छात्रों ने हड्डी रोग विभाग में हंगामा किया था। जिसके बाद परिसर में गहमागहमी मच गई थी।

Posted By: Akshay Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस