पटना [जेएनएन]।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अगले पांच वर्षों में बिहार को विकसित राज्य बनाने के संकल्प के साथ दिवाली और छठ महापर्व से पहले शनिवार को 3769 करोड़ रुपये की सौगात दी। उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग से जुड़े 3031 करोड़ रुपये के चार एवं राजधानी के लिए 738.04 करोड़ रुपये की चार सीवरेज परियोजनाओं का शिलान्यास किया।

राज्य में सत्ता परिवर्तन और राजग की नई सरकार के गठन के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने दो साल पहले बिहार के विकास के लिए किए गए वादों में से 53 हजार करोड़ की जारी योजनाओं का उल्लेख किया और बाकी को पूरा करने के इरादे जताए। पीएम और सीएम की सियासी भाषा एक थी...सिर्फ बिहार का विकास।

प्रधानमंत्री ने जनता को भरोसा दिया कि राज्य और केंद्र सरकार मिलकर बिहार के विकास के लिए सभी प्रयास करेगी। राजद प्रमुख लालू प्रसाद का नाम लिए बगैर प्रधानमंत्री ने सड़कों के महत्व की चर्चा करते हुए कहा कि कुछ ऐसे भी लोग हैं जिनकी सोच देश को पीछे ले जाने की है। वे कहते थे कि सड़कें गरीबों के लिए नहीं होती। इसपर मोटरकार वाले चलते हैं। प्रधानमंत्री ने बिहार सरकार के कार्यों की जमकर सराहना की। उन्होंने कहा कि जब कोई सांसद उनसे मिलते हैं तो अपने क्षेत्र में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत सड़कें बनाने की मांग करते हैं।

लोकसभा चुनाव की तैयारियों के बीच प्रधानमंत्री ने बिहार में सामाजिक समीकरण को भी साधने का प्रयास किया। भगवान परशुराम और राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर को याद किया और दलितों के महापुरुष बाबा चौहरमल की धरती का अभिनन्दन किया। बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह की तारीफ करते हुए उन्हें आधुनिक बिहार का निर्माता बताया।

मोकामा में मंच पर पहुंचने के बाद जब पीएम ने मगही में लोगों से पूछा कि कइसन हो मोकामा के लोग, तोहरा परनाम। हम धन्य हो गेलियो। मगही में उनका यह भाषण सुनकर तालियों की गड़गड़हाट से सभा स्थल गूंज उठा। उन्होंने कहा कि पूरा देश दिवाली की तैयारी कर रहा है और यहां छठ की तैयारी हो रही है। सबको दिवाली और छठ की बधाई।

मगही में पीएम ने किया संबोधित, बजी तालियां

पीएम मोदी ने मंच से सभा को संबोधित करने के लिए जैसे ही कहा भारत माता की जय, सभा स्थल तालियों से गूंज उठा। पीएम ने कहा कि बिहार का भाग्य बदलने के लिए हम काम कर रहे हैं। आपने जो भरोसा जताया है,केंद्र और राज्य सरकार आपकी तपस्या को बेकार नहीं जाने देगी। 

गंगा होगी साफ तो छठ का आएगा अलग ही आनंद

पीएम ने कहा कि गंगा स्वच्छ होगी पवित्र होगी तो छठ का आनंद भी अलग होगा। गंगा हमारे जीवन से जुड़ी है, गंगा को बचाने के लिए हम सबको आगे आना होगा। गंगा को बचाना भावी पीढ़ी  की जिम्मेदारी है। इसे बचाने से जल की समस्या खत्म हो जाएगी। 

उन्होंने कहा कि गंगा स्वच्छ होगी तभी अविरल होगी। कभी हमारा मोकामा मिनी कलकत्ता के नाम से जाना जाता था। अभी युग कनेक्टिविटी का है और बिहार के लोगों को घर तक पहुंचने में परेशानी होती थी तो अब बिहार को पूर्वी  यूपी से जोड़ने के लिए चार ट्रेनें चलाई जाएंगी। 

शौचालय की समस्या को मिलकर खत्म करेंगे

भारत सरकार और राज्य सरकार मिलकर फ्री बिजली देंगे, हिंदुस्तान की जनता अब अंधकार में नहीं रहेगी। स्वच्छता के लिए काम मां बहनों के लिए कराया है, जो शौचालय के लिए रात के अंधेरे का इंतजार करती थीं अब शौचालय बहुत जरूरी है। 

उन्होंने कहा कि शपथ लीजिए कि शौचालय की समस्या से माताओं और बहनों को उबारेंगे। जिस धरती पर बापू ने कदम रखा और चंपारण से इतनी बडी़ शुरुआत की, उस धरती को मेरा प्रणाम है। उस धरती के विकास के लिए ,पूर्वी भारत के विकास के लिए केंद्र सरकार प्रतिबद्ध है।

पटना म्यूजियम पहुंचे पीएम मोदी, नीतीश भी रहे साथ

पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी दिवस समारोह में भाग लेने के बाद पटना म्यूजियम पहुंचे, जहां सीएम नीतीश कुमार ने उन्हें म्यूजियम को बिहार की विरासत से परिचय कराया। नीतीश कुमार ने पीएम मोदी से म्यूजियम देखने का आग्रह किया था जिसके बाद पीएम म्यूजियम पहुंचे। पीएम मोदी ने म्यूजियम में रखी एक-एक चीजों की जानकारी ली। 

इसके बाद पीएम मोदी पटना एयरपोर्ट पहुंचे जहां से वे हेलीकॉप्टर से मोकामा पहुंचे। मंच पर मौजूद नेताओं ने उनका स्वागत किया। 

उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने पीएम मोदी का स्वागत किया और कहा कि पीएम मोदी आज बिहार को कई उपहार दे रहे हैं, जिससे बिहार के लोगों को काफी फायदा होगा।

नितिन गडकरी ने कहा-वादे पूरे होंगे

सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि बिहार में एनएच का काम तेजी से हो रहा है।गंगा पर गांधी सेतु पुल का निर्माण जल्द शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पीएम ने जो वादा किया था वो पूरा होगा। बिहार के विकास के लिए केंद्र सरकार प्रतिबद्ध है।

मोकामा में सभा स्थल से मोदी-मोदी के नारे लगाए गए। लोगों में काफी उत्साह था। इससे पहले पीएम ने पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह को संबोधित किया। 

आज सुबह दस बजकर चालीस मिनट पर पीएम मोदी दिल्ली से पटना एयरपोर्ट पहुंचे, जहां  सीएम नीतीश ने उन्हें लाल गुलाब का फूल देकर उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। पीएम ने भी लाल गुलाब लेकर अपनी खुशी जाहिर की और हाथ में लाल गुलाब थामे ही अन्य लोगों से भी बारी-बारी से मिले।

पीएम की अगुवाई के लिए बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक, सीएम नीतीश कुमार के साथ ही केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन भी पीएम के स्वागत के लिए पटना एयरपोर्ट पहुंचे थे।

उनके साथ ही कई गणमान्य लोग भी पीएम के स्वागत के लिए पटना एयरपोर्ट पहुंचे। पीएम ने सबसे मुलाकात की और अब वे पटना एयरपोर्ट से सीधे पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में भाग लेने के लिए पटना साइंस कॉलेज में आयोजित सभा स्थल पहुंचे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया। पीएम मोदी के पहुंचने के साथ ही सभा स्थल पर मोदी-मोदी के नारे गूंजते रहे। 

मंच पर पहुंचने के बाद पीएम मोदी ने हाथ हिलाकर सबका अभिवादन किया, मंच पर मौजूद सभी लोगों से पीएम मोदी ने हाथ मिलाया। मंच पर पीएम मोदी ने बीच में स्थान ग्रहण किया। उनकी एक ओर सीएम तो दूसरी ओर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने स्थान ग्रहण किया। उसके बाद पीयू का गान प्रस्तुत किया गया। 

पटना यूनिवर्सिटी के समारोह स्थल के मंच को विशेष रूप से सजाया गया है। पीएम को स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया और पीयू के वीसी रासबिहारी सिंह ने पीएम सहित गणमान्य लोगों का समारोह में स्वागत किया और शॉल देकर सम्मानित किया। उसके बाद वीसी ने स्वागत भाषण में पीयू का इतिहास बताया और उसके साथ ही शताब्दी वर्ष पर 12 नये विभाग भी खोले जाने का एलान किया।

उनके बाद बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने अपने भाषण में कहा कि इस विश्वविद्यालय ने कई दिग्गजों को शिक्षा प्रदान की जिन्होंने देश और दुनिया में नाम कमाया। लोक नायक जयप्रकाश नारायण से लेकर कई नेता और प्रतिष्ठित लोगों को इस यूनिवर्सिटी की मिट्टी ने गढ़ा है। 

उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के बाद मुख्यमंत्री नीतीश ने अपनी यादें ताजा करते हुए कहा कि इस विश्वविद्यालय में एडमिशन होना उस वक्त के लिए गर्व की बात थी, इससे मेरी गहरी यादें जुड़ी हैं। इसी यूनिवर्सिटी के इंजीनियरिंग कॉलेज में मुझे पढ़ने के लिए मेरे पिताजी ने मेरा एडमिशन कराया और मैं भी इसका छात्र बना। मेरे पिताजी की दिली ख्वाहिश थी कि मैं इंजीनियर बनूं। 

उन्होंने पीएम मोदी को धन्यवाद देेते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी जी पहले प्रधानमंत्री हैं जो विश्वविद्यालय के समारोह में आये हैं। नीतीश ने कहा कि मैं हाथ जोड़कर पीएम मोदी जी से आग्रह करता हूं कि इस विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा प्रदान करें जिससे कि यहां के छात्र कहीं बाहर जाने के लिए ना सोचें।

प्रधानमंत्री के आगमन से पहले समारोह में शिरकत करने कई मंत्री और सांसद विधायक पहुंचे, जिसमें केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान, रविशंकर प्रसाद, उपेंद्र कुशवाहा, अश्विनी चौबे, मंत्री विनोद नारायण झा, मंत्री मंजू वर्मा, पूर्व शिक्षामंत्री अशोक चौधरी  सहित कई गणमान्य लोग शामिल रहे।

पटना विश्वविद्यालय के छात्र पीएम के आगमन को लेकर काफी खुश थे, उनका उत्साह चरम पर था। छात्राओं ने बताया कि आज हम उस एतिहासिक पल के गवाह बनेंगे क्योंकि आज पटना विश्वविद्यालय का शताब्दी दिवस समारोह है और पीएम इसमें शिरकत करने आए। इस समारोह में शिरकत करने यूनिवर्सिटी के पूर्ववर्ती छात्र भी पहुंचे थे।

म्यूजियम देखने के बाद प्रधानमंत्री मोकामा पहुंचे जहां उन्होंने केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 के औंटा-सिमरिया पथ को चार लेन किए जाने, छह लेन वाले गंगा सेतु के निर्माण और बख्तियारपुर-मोकामा पथ को चौड़ा कर चार लेन बनाने सहित चार राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का शिलान्यास किया।

 

इस मौके पर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी भी उपस्थित रहे। इन कार्यक्रमों में भाग लेने के बाद प्रधानमंत्री  पटना हवाईअड्डे पहुंचेंगे और फिर दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे। प्रधानमंत्री के बिहार दौरे को लेकर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे। प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर पुलिस महानिदेशक पीके ठाकुर ने पुलिस मुख्यालय में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस